सुप्रीम कोर्ट ने नियोजित शिक्षकों की वेतन संबंधी याचिका खारिज कर दी है। यह पुनर्विचार याचिका बिहार के नियोजित शिक्षकों की ओर से दायर की गई थी। इसमें नियोजित शिक्षकों ने नियमित शिक्षकों के समान वेतन की मांग की थी। उनका कहना था कि समान काम के लिए उन्हें समान वेतन भी मिलना चाहिए।
गौरतलब है कि बीते 10 मई को सुप्रीम कोर्ट ने नियोजित शिक्षकों को नियमित शिक्षकों के समान वेतन देने से इनकार कर दिया था। इसके साथ-साथ इस मामले में पटना हाई कोर्ट का वह आदेश भी रद्द कर दिया था जिसमें नियोजित शिक्षकों के पक्ष में फैसला दिया गया था। इसके खिलाफ बिहार सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका लगाई थी। कोर्ट ने वह याचिका मंजूर की थी जिसमें बिहार सरकार ने अपना पूरा पक्ष रखा था।

लेकिन 10 मई 2019 को सुप्रीम कोर्ट द्वारा दिए गए फैसले के संबंध में नियोजित शिक्षकों ने पुनर्विचार याचिका लगाई थी। अब कोर्ट ने उस याचिका को खारिज करते हुए कहा है कि उनके द्वारा दिए गए फैसले में कोई गलती नहीं है। इसलिए इस पर किसी तरह का पुनर्विचार नहीं