छिंदवाड़ा  । श्रवण मास के   पावन महीने में छोटी बाजार स्थित राम मंदिर में प्राचीन पंचमुखी शिवलिंग का मां नर्मदा जल से प्रतिदिन रूद्राभिषेक किया जाएगा। सत्य धर्म मंडल द्वारा आयोजित रूद्राभिषेक कार्यक्रम में पतित पावनी मां नर्मदा जल से मंदिर में स्थित प्राचीन पंचमुखी शिवलिंग एवं 12 अस्थायी नर्मदेश्वर शिवलिंग का प्रात: 6.30बजे से मंदिर के पुजारी पं.नंदकिशोर शात्री जी के द्वारा वैदिक विधि विधान मंत्रोच्चार के साथ अभिषेक प्रांरभ हुआ। सत्य धर्म मंडल श्रीराम मंदिर प्रवक्ता कृष्णा सेठिया ने जानकारी देते हुए बताया कि यह रूद्राभिषेक प्रतिदिन श्रवण पूर्णिमा रक्षाबंधन तक जारी रहेगा। यह धार्मिक अनुष्ठान पुर्णत: निशुल्क है इसमें किसी भी तरह का शुल्क मंदिर समिति के द्वारा नही लिया जाता है। सावन माह की चारों  
सोमवार को भगवान भोलेनाथ जी की सुंदर झांकी सजाते है अभिषेक होगा। जिसमें पहले सोमवार बाबा अमरनाथ शिवलिंग दूसरे सोमवार उज्जैन स्थित महाकाल तीसरे सोमवार को नासिक स्थित भगवान त्रयंम्बकेश्वर चौथे सोमवार को पशुनाथ जी की सुंदर झांकी सजाई जाएगी एवं अभिषेक किया जाएगा।  
बरमान का नर्मदा जल - 
अभिषेक के लिए सत्य धर्म मंडल द्वारा रूद्राभिषेक के लिए विशेष तौर से मां नर्मदे का जल लाया गया है। इसी जल से प्रतिदिन रूद्राभिषेक किया जाएगा। मंदिर समिति ने नगर के सभी शिवभक्तों को रूद्राभिषेक के लिए आमंत्रित किया है।  
शुभ संयोगों के साथ मनाया जाएगा श्रावण मास- 
इस वर्ष कई शुभ संयोग श्रावण मास में बन रहे है श्रावण मास का शुभारंभ ब्रज और शिवकुंभ योग से हुआ है चार सोमवार पड़ेगें। हरियाली अमावस्या 1अगस्त को पंचमहायोग के साथ मनाई जाएगी। बताया जा रहा है कि यह संयोग 125 साल बाद आ रहा है बहुत दिनों के बाद सावन में कई बड़े संयोग बन रहे है 1अगस्त को हरियाली अमावस्या पर सिद्धि योग शुभ योग अमृत योग,सार्वथ सिद्धि योग के साथ गुरू पुष्यामृत योग इन पांच शुभ संयोगों के साथ शिवाभिषेक मां पार्वती की पूजा का अनंत गुना फल मिलेगा वहीं ये पंचयोग मनोवांछित फल देगें।नागपंचमी के दिन सोमवार होने से विशेष फलदायक होगा। इस दिन चन्द्रप्रधान हस्तरक्षक और त्रियोग सर्वाथ सिद्धि योग, सिद्धि योग,रवि योग ये त्रियोग के संयोग से काल सर्प दोष निवारण के लिए पूजा करना अधिक फलदायी होगा।पं.िववेक जावड़ेकर ने बताया कि नागपंचमी पर त्रियोग के चलते काल सर्प दोष निवारण के लिए योग समय है।