समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने भाजपा पर प्रहार करते हुए कहा है कि इस पार्टी की जनसभाओं में खाली पड़ी कुर्सियों से जाहिर हो रहा है कि जनता उसे उखाड़ फेंकने का मन बना चुकी है। अखिलेश ने रविवार को सैफई में अपने आवास पर संवाददाताओं से कहा कि भाजपा की चुनावी जनसभाओं में खाली पड़ी कुर्सियां जनता के मन को जाहिर कर रही हैं। इन्हीं खाली कुर्सियों की तरह भाजपा पहले चरण के चुनाव में खुद को खाली पाएगी। जनता उसे सत्ता से उखाड़ फेंकने का मन बना चुकी है।

उन्होंने कहा कि पहले चरण में जिन आठ लोकसभा क्षेत्रों में चुनाव होने हैं, उन पर अभी तो भाजपा का ही कब्जा है, मगर जब चुनाव परिणाम आएगा तो पहले चरण से ही भाजपा के पतन की शुरुआत हो जाएगी। ऐसा इसलिये होगा क्योंकि भाजपा जनता को अपने पांच साल के कामकाज का हिसाब नहीं दे पा रही है। उल्टे, मूल मुद्दों से लोगों का ध्यान भटका रही है। सपा प्रमुख ने कहा कि भाजपा पाकिस्तान में घुसकर आतंकवादियों को मारने वाली वायु सेना के शौर्य का श्रेय खुद ले रहे हैं। लेकिन पाकिस्तान की मदद कर रहे चीन का भारत के छोटे-बड़े तमाम बाजारों पर कब्जा हो गया और भाजपा उस पर कोई बात क्यों नहीं कर रही?

उन्होंने कहा कि 'मेक इन इंडिया' की बात करने वाली केंद्र सरकार ने किसानों की उपज खरीदने के बजाय विदेश से आयात करने पर जोर दिया है। खाने का कितना घी, तेल विदेश से मंगवाया जा रहा है। आखिर इसके लिए जिम्मेदार कौन है। पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि आज देश में बड़े पैमाने पर बेरोजगारी फैली है। किसान संकट में हैं, व्यापार खत्म हो गया है। ऐसे में लोगों को नोटबंदी का समय याद आ रहा है मगर उस वक्त इसे अपनी उपलब्धि बता रही भाजपा अब इसका जिक्र तक नहीं कर रही है, तो लोग उसे वोट क्यों देंगे।