कांक्रिट में बोल्डर मिलाकर बना रहे सीसी रोड

मुलताई। नगर में चौधरी कंट्रक्शन द्वारा बनाई जा रही स$डकों के निर्माण कार्य में लगातार लापरवाही और भ्रष्टाचार की शिकायते आ रही है, जिसके बाद सीएमओ राहुल शर्मा ने बताया कि सोमवार से एक उपयंत्री साईड पर रहकर निर्माण कार्य पूरा करवाएंगे। उन्होंने कहा कि उपयंत्री अपनी निगरानी में काम पूरा करवाएंगे और लापरवाही होने पर ठेकेदार के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। हाईस्कूल मैदान से रेल्वे स्टेशन की ओर बन रही स$डक में भारी भ्रष्टाचार का खेल चल रहा है। रविवार को नगर पालिका ने एक दैनिक वेतन भोगी कर्मचारी को साइड पर ख$डा कर दिया, ठेकेदार द्वारा मोटे-मोट पत्थरों वाली गिट्टी और रेत से मसाला बनाकर स$डक का निर्माण कार्य करवाया जा रहा था। सूचना मिलने पर मौके पर सभापति हनि सरदार पहुंचे और उन्होंने ठेकेदार को जमकर फटकार लगाई। हनि सरदार ने जब ठेकेदार से पूछा कि २ क्यूबिक मीटर के मिक्सर प्यूरी में कितने बोरी सीमेंट डाला जा रहा है कि ठेकेदार ने बताया कि १० बोरी सीमेंट में दो क्यूबिक मीटर मसाला बनाया जा रहा है। जिस पर सभापति ने सहायक यंत्री आरसी गव्हा$डे को जानकारी दी। सभापति ने बताया कि ठेकेदार द्वारा ब$डे-ब$डे पत्थर मसाले से बिनवाकर स$$डक बनाई जा रही हैं। इसके अलावा भी अन्य आवश्यक आहतार्एं अभी तक ठेकेदार द्वारा पूरी नहीं की गई है। ठेकेदार ने स्वंय की लैब भी अभी तक नहीं बनाई है। कई बार नोटिस मिलने के बाद भी ठेकेदार अपनी मनमानी से काम कर रहा है और नगर पालिका के जिम्मेदार जनप्रतिनिधियों ने ठेकेदार को इसके लिए खुली छूट भी दे दी हैं।
उपयंत्री खडे होकर करवाएंगे काम
पूरे मामले को लेकर जब नगर पालिका के नवागत सीएमओ राहुल शर्मा से चर्चा की गई तो उन्होंने बताया कि इस स$डक निर्माण में लगातार शिकायते मिल रही हैं। इसलिए एक उपयंत्री को इस स$डक के निर्माण स्थल पर भेजा जाएगा, वह ख$डे रहकर पूरा काम करवाएंगे। जब उनसे पूछा गया कि आधे से ज्यादा स$डक तो बन चुकी है और बहुत ही घटिया निर्माण हुआ है, इसके लिए क्या किया जाएगा तो वे बोले कि अब निर्माण हो चुका है, उसके लिए क्या किया जा सकता है।
दिखाने के लिए रखा नीडिल वायब्रेटर
साइड पर दिखाने के लिए नीडिल वायब्रेटर रखा गया है। जिसका उपयोग तक नहीं किया जा रहा है। हालत यह है मिक्सर मशीन से साइड पर मसाला डालने के बाद बिल्कुल भी इस्तेमाल नहीं किया जा रहा है। प्लेट वायब्रेटर से मसाला प्लेन करवाया जा रहा है, साइड पर किसी भी टेक्निकल अधिकारी के नहीं होने से ठेकेदार अपनी मनमर्जी से काम कर रहा है। नगर पालिका के दैनिक वेतन भोगी को तो यह तक नहीं पता कि कितनी सीमेंट, कितनी रेत और कितनी गिट्टी का इस्तेमाल किया जा रहा है।

Source : Rakesh agrwal/Akshay soni

2 + 12 =

Name: धीरज मिश्रा (संपादक)

M.No.: +91-96448-06360

Email: [email protected]