चेन्नई  । चेन्नई के खिलाफ अपनी जीत की लय बरकरार रखते हुए मुंबई इंडियंस ने आईपीएल के सीजन के फाइनल में प्रवेश कर लिया है। चेन्नई द्वारा दिए गए 132 रन के लक्ष्य को  मुंबई ने 4 विकेट खोकर 9 गेंद शेष रहते प्राप्त कर लिया। 
लक्ष्य का पीछा करने उतरी  मुंबई की शुरुआत भी अच्छी नहीं रही। ओपनर क्विंटन डी कॉक  और रोहित शर्मा लंबी पारी नहीं खेल सके। शर्मा  पहले ओवर की दूसरी गेंद पर मात्र एक चौका मार कर दीपक चहर द्वारा  एलबीडब्ल्यू कर दिया गए। डी कॉक को हरभजन सिंह ने 12 गेंदों में दो चौके लगाने के बाद 14 ओवर में डू प्लेसी के हाथों कैच करा दिया। इसके बाद सूर्यकुमार यादव ने ईशान किशन के साथ मिलकर पारी संभाली। दोनों ने 63 गेंदों में 80 रन की साझेदारी कर मुंबई को जीत के मुहाने पर ला दिया। इमरान ताहिर ने 14 वें ओवर की अंतिम 2 गेंदों में ईशान किशन और कुणाल पंड्या के विकेट लेकर मैच में थोड़ी जान डालने की कोशिश की। उन्होंने किशन को  बोल्ड कर दिया। किशन ने 31 गेंदों में 1 चौके 1 छक्के की सहायता से 28 रन बनाए। पंड्या बिना खाता खोले ताहिर द्वारा अपने ही गेंद पर कैच कर लिए गए। रविंद्र जडेजा के अगले ओवर की पहली गेंद पर भी हार्दिक पंड्या ने कैच उछाला था लेकिन वाटसन पकड़ नहीं पाए अन्यथा मैच थोड़ा और रोमांचक होता। पंड्या ने  11 गेंदों में नाबाद 13 रन बनाए। सूर्यकुमार यादव ने 54 गेंदों में 71 रन की शानदार पारी खेली।  उन्होंने 10 चौके मारे  और नाबाद रहे। 
इससे पहले आईपीएल के पहले क्वालीफायर में मुंबई इंडियन एक बार फिर चेन्नई सुपर किंग्स पर हावी दिखे। पहले बल्लेबाजी करते हुए निर्धारित बीस ओवर में चेन्नई की टीम 4 विकेट खोकर मात्र 131 रन ही बना सकी।
टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी का निर्णय चेन्नई के लिए घातक साबित हुआ। शुरुआत बेहद धीमी हुई और उसके बाद नियमित अंतराल पर विकेट गिरते रहे। ओपनर  डू प्लेसी कुछ खास नहीं कर सके 11 गेंदों में 6 रन बनाकर उन्हें राहुल चहर ने सब्सीट्यूट के हाथों कैच करा दिया। रैना भी 7 गेंदों में मात्र 5 रन ही बना पाए उन्हें जयंत यादव ने कॉट एंड बोल्ड किया। 
शेन वॉटसन ज्यादा नहीं चले 13 गेंदों में 10 रन बनाकर वे भी कुणाल पंड्या की गेंद पर जयंत यादव को केस थमा बैठे। इन तीनों शुरुआती बल्लेबाजों ने मिलकर कुल 4 बाउंड्री मारी। इसके बाद अंबाती रायडू ने मुरली विजय के साथ मिलकर पारी बनाने का प्रयास किया। 
दोनों ने धीमे खेलते हुए 31 गेंदों में 33 रन की साझेदारी की। मुरली विजय तेज खेलने के फेर में राहुल चहर की गेंद पर डी कॉक द्वारा स्टंप कर दिए गए। इसके बाद धोनी और अंबाती रायडू ने। पारी को संभालने की कोशिश की दोनों ने मिलकर 47 गेंदों में 66 रन बनाए। रायडू 37 गेंदों में नाबाद 42 रन बनाकर सर्वाधिक स्कोर करने वाले बल्लेबाज रहे। उन्होंने तीन चौके और एक छक्का मारा। धोनी ने 29 गेंदों में 3 छक्के की सहायता से 37 रन बनाए।
मुंबई के सभी गेंदबाजों ने किफायती गेंदबाजी की। चहर ने 4 ओवर में 14 रन देकर दो विकेट लिए और एक तरह से चेन्नई की बल्लेबाजी की कमर तोड़ दी। पंड्या  और यादव को एक एक विकेट मिला। 
मुंबई के खिलाफ कौन सी टीम खेलेगी यह चेन्नई और एलिमिनेटर के विजेता के बीच मैच में तय होगा। चेन्नई के पास अभी भी फाइनल में पहुंचने का मौका है, यदि वह एलिमिनेटर के विजेता को दूसरे क्वालीफायर में हरा देती है तो।