भोपाल। मध्यप्रदेश की कमलनाथ सरकार जल्द से जल्द किसानों का कर्ज माफ करना चाहती है। 22 फरवरी से किसानों के खातों में पैसे डलने  शुरू हो जाएंगे। कांग्रेस के वचन पत्र में दिए किसान कर्ज माफी के वचन को पूरा करने अब कांग्रेस खुद कर्ज में डूबती जा रही है। डेढ़ महीने की कांग्रेस सरकार में ये तीसरा मौका है जब सरकार ब्याज पर पैसा उठा रही है। 
सरकार 1 हजार करोड़ का कर्ज लेगी। इसके पहले कमल नाथ 1600 और 1000 करोड़ का कर्ज ले चुकी है। वित्त विभाग ने इसे लेकर अपनी मंजूरी भी दे दी है। कर्ज को लेकर चालू वित्त वर्ष की बात करें तो अब नए कर्ज को मिलाकर दोनों सरकारों का कर्ज 14 हजार करोड़ हो जाएगा, जिसमें शिवराज सरकार का 10 हजार 400 करोड़ रुपये और कांग्रेस सरकार के इन तीन कर्जों का 3600 करोड़ शामिल है। 
..........
हमने किसानों को कर्ज से उबारा : कमलनाथ 
प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष एवं मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को वोटों की राजनीति की खातिर नित्य झूठ का सहारा लेना पड़े यह दुर्भाग्यपूर्ण है। शायद प्रधानमंत्री जी बीते 15 वर्षों के मध्यप्रदेश भाजपा शासन के क्रियाकलापों से अवगत होते तो तथ्यहीन बातों का सहारा राजनैतिक रैलियों में न लेते। प्रधानमंत्री जी ने आज एक राजनैतिक रैली में कहां की जिन्होंने लोन लिए ही नही उनके भी लोन माफ हो रहे है और किसानों का 13 रुपये तक का कर्ज माफ हो रहा है अर्थात घोटाला हो रहा है। कमलनाथ ने कहा कि प्रधानमंत्री सच बात तो यह है की पिछली मध्यप्रदेश भाजपा सरकार के घोटालों का इलाज हो रहा है। भाजपा राज में 15 वर्षो के कार्यकाल में संभावना है कि 2500 से 3000 करोड़ रुपये भोले-भाले किसानों के लोन के नाम पर षडयंत्रपूर्वक बैंकों से निकाले गए है और यह सब भाजपा की सत्ता की सरपरस्ती में हुआ है। कांग्रेस की सरकार अगर कर्जमाफी का पारदर्शी तरीका न अपनाती तो शायद किसानों को ठगने वाले लोग कभी पकड़े भी न जाते। हम जानते है कि भाजपा के कुछ नेता किसान कर्जमाफी पर लगातार भ्रामक प्रचार इसलिए कर रहे है कि यह जांच रुक जाए और अपराधी बेनकाब न हों मगर हम दृढ़ संकल्पित है। हर हाल में किसानों को धोखा देने वालों को बख्शेंगे नही चाहे वो कितना भी प्रभाव शाली क्यों न हो।  कमलनाथ ने कहा कि आज दिनांक तक ४७ लाख ८३ हजार किसानों ने कर्जमाफी के आवेदन दिए है। फिर इन आवेदनों को बैंक शाखाओं से उनके खातों से मिलान किया जाएगा। फिर किसानों के खातों में २२ फरवरी से कर्ज माफी की राशि जमा कराई जाएगी। इस जय किसान ऋ ण माफी योजना में ५५ लाख ६२ हजार बैंक ऋण खातों में ४७, ०८५ करोड़ का किसान भाइयों का कर्ज खत्म कर अन्नदाता को उनका अधिकार सोप देंगे।