पुलिसकर्मियों पर लाठी-डंडों व ईंट-पत्थर से किया अराजकतत्वों हमला 

बाराबंकी
राजधानी लखनऊ से सटे बाराबंकी जिले में एक धार्मिक स्थल (मजार) को लेकर विवाद हो गया। यहां अराजकतत्वों ने पथराव शुरू कर दिया। इस दौरान चार सिपाही समेत एक दरोगा भी घायल हो गए। पत्थराव और पुलिस कर्मियों के घायल होने के सूचना पर एसपी बाराबंकी यमुना प्रसाद भारी फोर्स के साथ मौके पर पहुंचे और अराजकतत्वों को हिरासत में लेकर स्थिति कंट्रोल की। इस दौरान पुलिस ने आंसू गैस के गोले और रबड़ की गोलियां भी दागी। बताया जा रहा है कि विवादित स्थल की बाउंड्री पर प्रशासन ने नोटिस चस्पा कर किसी भी व्यक्ति के आने जाने पर पूरी तरह रोक लगा दी है। जिसके बाद अराजकतत्वों वहां पत्थराव शुरू कर दिया।
 
क्या है पूरा मामला
ये मामला बाराबंकी जिले के रामसनेहीघाट तहसील परिसर का है। यहां शुक्रवार की शाम को तहसील परिसर के विवादित स्थल की बाउंड्री पर प्रशासन ने नोटिस चस्पा कर किसी भी व्यक्ति के आने जाने पर पूरी तरह रोक लगा दी है। नोटिस में साफ तौर पर लिखा था कि किसी भी शख्स के बलपूर्वक घुसने पर कार्रवाई की जाएगी। तो वहीं, पुलिस-प्रशासन द्वारा विवादित स्थल पर आने-जाने से रोकने पर समुदाय विशेष के लोगों ने पुलिस व प्रशासनिक अधिकारियों पर जमकर पथराव कर दिया। जिसमें दरोगा सहित चार पुलिसकर्मी घायल हो गए। अराजकतत्वों ने पुलिस की बाइकें तोड़ दी गई। मौके पर पहुंची पुलिस टीम ने कुछ उपद्रवियों को पकड़ लिया और पूरे इलाके को सील कर दिया गया।

तीन दिनों से चल रहा है विवाद
खबरों के मुताबिक, ये विवाद पिछले तीन दिन से चल रहा है। रामसनेहीघाट तहसील कैम्पस में दो-तीन कमरें बने हैं। इसमें बिहार व बंगाल के तीन लोग रहते थे। ज्वाइंट मजिस्ट्रेट व आईएएस अधिकारी दिव्यांशु पटेल को कुछ दिन पहले तहसील परिसर में रहने वाले लोगों ने इस भवन में संदिग्ध गतिविधियों की शिकायत की। जिस पर दिव्यांशु पटेल ने यहां पर रहने वाले लोगों से आईडी प्रूफ मांगे। इसके बाद यहां रह रहे लोग भाग खड़े हुए। दो दिन पहले संयुक्त मजिस्ट्रेट ने इस विवादित स्थल पर आने-जाने के लिए लगे गेट को बंद कर दीवार बनवा दी गई।

शुक्रवार की रात बोला हमला
तहसील परिसर के अंदर स्थित भवन को लेकर शुक्रवार की रात गांव के सैकड़ो लोग तहसील प्रशासन की ओर से बनवाई गई दीवार को ढहाने के लिए एकत्र हुए और नारेबाजी शुरू कर दी। इस दौरान लोग लाठी-डंडों व ईंट-पत्थर से लैस होकर पहुंचे। जब तक पुलिस बल कुछ समझ पाता भीड़ ने पथराव शुरू कर दिया। जिसमें कुछ पुलिसकर्मी चोटहिल भी हुए। इसकी सूचना पड़ोस में स्थित थाने पर पहुंची तो भारी संख्या में पुलिस बल उक्त विवादित स्थल पर पहुंची। पुलिस ने भारी भीड़ को देखते हुए आंसू गैस के गोले के साथ रबड़ की गोलियां दगाकर लोगों को तितर-बितर किया।
 
सूचना के बाद डीएम आदर्श सिंह, एसपी यमुना प्रसाद, 15 थानों की पुलिस फोर्स व पीएसी के साथ पहुंच गए। इलाके को सील कर दिया है। उपद्रवियों की पहचान कर धरपकड़ व सर्च ऑपरेशन जारी है। डीएम आदर्श सिंह ने बयान जारी कर कहा कि कुछ अराजकतत्वों द्वारा शांति व्यवस्था को बिगाड़ने का प्रयास किया जा रहा है जिस पर पुलिस फोर्स उपस्थित था और हम और पुलिस अधीक्षक मौके पर तत्काल पहुंचे यंहा शांति व्यवस्था पूरी तरह कायम है स्थिति पूरी तरह नियंत्रण में है और ऐसे अराजक तत्त्वों के विरुद्ध कठोर से कठोर कार्रवाई की जाएगी।

Source : Agency

1 + 1 =

Name: धीरज मिश्रा (संपादक)

M.No.: +91-96448-06360

Email: [email protected]