कोरोना: दिल्ली ने तोड़ा इस साल का रिकार्ड, 27 दिसंबर के बाद सबसे ज्यादा मामले 

नई दिल्ली
दिल्ली में कोरोना ने शुक्रवार को इस साल का रिकार्ड तोड़ दिया। पिछले 24 घंटों में 716 नए लोगों में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई। यह राजधानी में 2021 में सबसे अधिक लोगों के कोरोना संक्रमित होने का आंकड़ा है। दिल्ली में 81 दिन बाद इतनी बड़ी संख्या में केस सामने आए हैं। इससे पहले 27 दिसंबर को दिल्ली में कोरोना के 757 मामले आए थे। शुक्रवार को 716 नए मामलों के बाद राजधानी में सक्रिय मरीजों की संख्या भी बढ़कर 3165 हो गई है। शुक्रवार को 471 मरीजों को छुट्टी दी गई जबकि चार मरीजों ने कोरोना के कारण दम तोड़ दिया। दिल्ली में कोरोना के ‌कुल मरीज 646348 हो गए हैं। इनमें से 6,32,230 मरीज कोरोना से ठीक हो चुके हैं। वहीं10953मरीजों ने कोरोना के कारण दम तोड़ दिया। दिल्ली में कोरोना से मृत्युदर 1.69  फीसदी हो गयी है। विभाग के अनुसार दिल्ली में कोरोना के तीन से अधिक सक्रिय मरीजों में से दिल्ली के विभिन्न अस्पतालों में 820 मरीज भर्ती हैं। वहीं कोविड केयर सेंटर में 5 और होम आइसोलेशन में 1624 मरीज भर्ती हैं। विभाग के अनुसार ‌वंदेभारत मिशन के तहत आए चार मरीज भी आइसोलेशन में हैं। 

0.93 फीसदी मरीज संक्रमित मिले
दिल्ली में गुरुवार के मुकाबले शुक्रवार को कोरोना की संक्रमण दर 0.17 फीसदी बढ़ गयी। शुक्रवार को हुई कोरोना की 77,352 जांच हुईं। इनमें 0.93 फीसदी मरीज कोरोना के संक्रमित पाए गए। शुक्रवार को आरटीपीसीआर तरीके से 47078 और रैपिड एंटीजन से 30274 टेस्ट हुए। दिल्ली में अभी तक कोरोना की जांच के लिए 13666875 टेस्ट हो चुके हैं। दिल्ली में बढ़ते मामलों के बीच हॉटस्पॉट की संख्या एक बार फिर से बढ़कर 682 हो गई है। पिछले 24 घण्टे में 35 हॉटस्पॉट बढ़े हैं।

संक्रमित के संपर्क में आने वाले 30 लोगों की कोरोना जांच होगी
कोरोना के बढ़ते सक्रिय मरीजों की संख्या को देखते हुए और संक्रमण को आगे बढ़ने से रोकने के लिए सरकार अलर्ट मोड पर आ गई है। कोरोना मरीजों से संक्रमण आगे न बढ़े इसके लिए कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग को तेज करने का निर्देश जारी कर दिया है। अब संक्रमित के सीधे संपर्क में आने वाले कम से कम 30 लोगों की कोरोना जांच की जाएगी। दिल्ली में वर्तमान में 2924 कोरोना के सक्रिय मरीज हैं। इसमें 1519 मरीज होम आइसोलेशन में हैं। स्वास्थ्य अधिकारियों के मुताबिक बीते कुछ माह से जब कोरोना की संक्रमण दर घटने लगी और कोविड टीकाकरण शुरू हुआ तो कांटेक्ट ट्रेसिंग पहले से कम कर दी गई थी। यह घटकर 10 से 15 तक आ गई था। इसका कारण यह था कि दिल्ली में संक्रमण की दर तेजी से घट रही थी और लोगों को कोविड टीका लगना भी शुरू हो चुका था। अधिकारी मानते हैं कि संक्रमण को आगे बढ़ने से रोकने का सबसे बेहतर तरीका कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग है, जिससे संक्रमित व्यक्ति को समय पर चिह्नित करके आइसोलेट किया जा सके। अब जब दोबारा सक्रिय मरीजों की संख्या बढ़ी है तो सरकार ने कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग बढ़ा दी है। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने भी इसे लेकर अधिकारियों को निर्देश दिया है। उन्होंने संक्रमण को आगे बढ़ने से रोकने के लिए कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग करके संक्रमित लोगों को आइसोलेट करने में तेजी लाने को कहा है। उसी के तहत अब कोरोना मरीज के सीधे संपर्क में आने वाले कम से कम 30 लोगों को ट्रेस करके उनकी कोविड जांच की जाएगी। संक्रमित मिलने पर उन्हें तुरंत आइसोलेट किया जाएगा।

कार्यस्थल, भीड़ वाले इलाकों में फिर बढ़ेगी निगरानी
लॉकडाउन खत्म हो चुका है। ज्यादतर जगहों पर लगी पाबंदियां भी खत्म हो गई हैं। मगर, मास्क लगाना, सोशल डिस्टेसिंग, सैनेटाइजेशन जैसी व्यवस्था अभी भी अनिवार्य है। अब कार्यस्थल (निजी व सरकारी) के अलावा रेस्तरां, आयोजन स्थलों में होने वाले कार्यक्रमों व भीड़भाड़ वाले इलाके में दोबारा से टीमें औचक निरीक्षण करेंगी, जिससे नियमों का उल्लंघन करने वालों पर कार्रवाई की जा सके। इसका कड़ाई से पालन किया जा सके।

मेट्रो स्टेशन पर कोरोना जांच शुरू
मेट्रो स्टेशनों पर दोबारा कोविड जांच शुरू की गई है। जिलावार कोरोना जांच टीम रैंडम अलग-अलग जिले में मेट्रो स्टेशन पर जाकर वहां आने जाने वाले लोगों की कोरोना जांच कर रही है। मेट्रो ने भी इसकी पुष्टि की है। उनके मुताबिक रोजाना करीब 10 से 11 स्टेशनों पर कोरोना जांच होती है। स्टेशन बदलते रहते हैं। स्वास्थ्य विभाग की टीम रैपिड एंटीजन किट से जांच कर रही है।

Source : Agency

4 + 11 =

Name: धीरज मिश्रा (संपादक)

M.No.: +91-96448-06360

Email: [email protected]