कोरोना वायरस महामारी के कारण फीफा विश्व कप और क्लब विश्व कप फुटबॉल का कार्यक्रम भी प्रभावित हुआ है। कोरोना के कारण ही फीफा के क्लब विश्व कप के एक सत्र को स्थगित करने के बाद दूसरे सत्र में भी बाधा आ रही है। इसके अलावा 2022 विश्व कप क्वालीफाइंग मुकाबलों में देर होने के कारण टूर्नामेंट को समय पर कराने को लेकर चिंताएं भी बढ़ गयी हैं। फीफा के अध्यक्ष जियानी इन्फेंटिनो ने महाद्वीपीय क्लब चैंपियनशिप के लिए पारंपरिक सात-टीमों के टूर्नामेंट को अब नई तिथियों पर आयोजित करने की बात कही है। पहले इसका आयोजन दिसंबर में कतर में होना था। 
क्लब विश्प कप को पारंपरिक सात टीमों की जगह 2021 से 24 टीमों के बीच खेला जाना था पर फीफा ने इस योजना पर फिलहाल रोक लगा दी है। यूरोपीय चैम्पियनशिप और कोपा अमेरिका 2020 को एक वर्ष के लिए स्थगित होने के कारण फीफा को क्लब विश्व कप के आयोजन के लिए समय मिल गया है। विश्व कप 2022 के लिए महाद्वीपीय क्वालीफायर मुकाबलों में हो रही देरी पर भी इंफेंटिनों ने चिंता जतायी है। एशिया में अगले साल से पहले इसके मैच नहीं होंगे। इंफेंटिनो ने कहा, ‘‘मैं चिंतित हूं। यह एक वास्तविक समस्या है, खासकर अगर महामारी का असर खत्म या कमजोर नहीं हुआ तो भी हम सामान्य तरीके से खेलना शुरू नहीं कर सकेंगे।’’ उन्होंने कहा कि संक्रमण से बचाव के लिए  कम यात्राएं करनी होंगी। ऐसे में घरेलू और दूसरे देशों की धरती पर खेलने की जगह एक ही जगह पर सभी क्वालीफायर मैच रखे जाने चाहिये।
फीफा अंडर-17 महिला फुटबॉल विश्व कप पर भी संशय 
कोरोना महामारी के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए भारत में अगले साथ फरवरी-मार्च में होने वाले फीफा अंडर-17 महिला फुटबॉल विश्व कप पर भी खतरा मंडराने लगा है। यह टूर्नामेंट पहले दो से 21 नवंबर के बीच पांच स्थानों पर आयोजित किया जाना था पर महामारी के कारण बाद में इसका आयोजन अगले साल 17 फरवरी से सात मार्च के बीच करने का फैसला किया गया था पर महामारी के अब भी कम होने के कोई संकेत नहीं दिख रहे हैं। इसके अलावा अफ्रीका, उत्तरी और मध्य अमेरिका तथा दक्षिण अमेरिका के क्वॉलिफाइंग टूर्नामेंट भी नहीं हो पाये हैं, ऐसे में इस टूर्नामेंट के फिर से स्थगित किए जाने की पूरी संभावनाएं हैं। 
यह टूर्नामेंट अगर स्थगित हुआ तो बाद में कब आयोजित किया जाएगा, इसके बारे में अभी कुछ नहीं कहा जा सकता।
वहीं अखिल भारतीय फुटबॉल महासंघ (एआईएफएफ) के महासचिव कुशल दास ने कहा कि इस मामले में अभी उन्हें कोई नई जानकारी नहीं मिली है। 
इस टूर्नामेंट के आयोजन में अब पांच महीने से भी कम समय बचा है तथा अफ्रीका, उत्तर और मध्य अमेरिका (कॉनकाकाफ) और दक्षिण अमेरिका (कॉनमेबोल) को अभी क्वॉलिफायर्स का आयोजन करना है। यूरोप (यूएफा) ने पिछले महीने अपना क्वॉलिफाइंग टूर्नामेंट रद्द करके अपनी सर्वोच्च रैंकिंग वाली टीमों स्पेन, इंग्लैंड और जर्मनी को विश्व कप में खेलने के लिए नामित किया था। ओसियाना परिसंघ ने भी यही तरीका अपनाया और उसकी तरफ से न्यूजीलैंड अंडर-17 विश्व कप में खेलेगा। 
केवल एशिया निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार क्वॉलिफायर्स का आयोजन कर पाया। जापान और उत्तर कोरिया ने 2019 एएफसी अंडर-16 महिला चैंपियनशिप में विजेता और उप विजेता बनकर क्वॉलिफाई किया।  एआईएफएफ अगले महीने राष्ट्रीय शिविर शुरू करने की योजना बना रहा था लेकिन टूर्नामेंट स्थगित होने पर वह इसे भी टाल सकता है।