नई दिल्ली । विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री हर्षवर्धन ने गुरुवार को सर्ब-पावर योजना की शुरुआत की। इस योजना का उद्देश्य विज्ञान एवं इंजीनियरिंग के क्षेत्र में गहन अध्ययन के लिए महिला शोधकर्ताओं को प्रोत्साहित करना है। इस योजना के तहत देश के प्रमुख शोध संस्थानों में महिला शोधकर्ताओं को दो श्रेणियों में विभाजित करके उच्चस्तरीय अनुसंधान एवं विकास कार्यों के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा। इसके लिए जो श्रेणियां बनाई गई हैं- उनके नाम हैं सर्ब पावर फेलोशिप और सर्ब पावर शोध अनुदान। सर्ब पावर फेलोशिप के तहत शीर्ष महिला शोधकर्ताओं को तीन वर्षो के लिए व्यक्तिगत फेलोशिप और शोध अनुदान दिया जाएगा। सर्ब पावर शोध अनुदान के तहत विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी के सभी संकायों में उच्च प्रभाव वाले शोध के लिए आर्थिक मदद दी जाएगी। विज्ञान एवं इंजीनियरिंग शोध बोर्ड (सर्ब) विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग के तहत निकाय है। डिजिटल समारोह को संबोधित करते हुए केंद्रीय मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में महिला शोधकर्ताओं की भागीदारी और भूमिका को बढ़ाने पर जोर दिया।