महिलाओं की जिंदगी में सबसे अहम मोड़ तब आता है जब वो मां बनती हैं। क्योंकि मां बनने के बाद उनके शारीरिक से लेकर मानसिक और भावनात्मक के साथ ही सामाजिक जीवन में भी परिवर्तन हो जाता है। ऐसे में जरूरी है कि महिलाएं अपने शरीर का अच्छे से ख्याल रखें। क्योंकि महिलाओं के स्वस्थ शरीर के बच्चे का स्वस्थ जीवन जुड़ा है। महिलाओं के शरीर को डिलीवरी के बाद कई घावों को भरना होता है। ऐसे में जरूरत है कि खुद का अच्छे से ख्याल रखा जाए। लेकिन आजकल की दिनचर्या में नई मांए खुद का अच्छे से ख्याल नहीं रख पाती। जिसकी वजह से आगे चलकर उन्हें कई सारी परेशानियों का सामना करना पड़ता है। तो चलिए जानें महिलाओं के लिए डिलीवरी के बाद किन बातों का ध्यान रखना जरूरी है
 माओं को डिलीवरी के छह हफ्तों तक काम नहीं शुरू नहीं करना चाहिए। इस दौरान रोजमर्रा के काम. ज्यादा थका देने वाले कामों से दूर रहना चाहिए। और केवल बच्चे की देखभाल पर और खुद पर ध्यान देना चाहिए।

 पर्याप्त आराम 
रात को शिशु को बार-बार दूध पिलाने की वजह से उनकी नींद नहीं पूरी हो पाती। ऐसे में जरूरी है कि वो अपनी नींद पूरी करें। बच्चा जब दूध पीने के बाद सोए तो तुरंत ही खुद भी साथ में सो जाएं। जिससे की थकान दूर हो जाए।

 परिवार की मदद
डिलीवरी के बाद जरूरी है कि परिवार के किसी सदस्य की मदद ली जाए। क्योंकि डिलीवरी के बाद शरीर को रिकवरी की जरूरत होती है। इसलिए जरूरी है कि किसी को हाथ बंटाने के लिए अपने साथ रखें।

संतुलित आहार 
शरीर के स्वस्थ रहने के लिए सही आहार का होना बहुत जरूरी है। इसलिए अपनी डाइट में साबुत अनाज, सब्जियां, फल और प्रोटीनरिच पदार्थ को शामिल करें। खूब सारा पानी पिएं क्योंकि स्तनपान कराने वाली मांओं के लिए ये बहुत जरूरी होता है।

व्यायाम करें
स्वस्थ रहने के लिए व्यायाम को दिनचर्या में जरूर शामिल करें। लेकिन इस बात का ध्यान रखें कि ये व्यायाम बहुत हल्के किस्म के हों और वो भी डॉक्टर की सलाह पर। जैसे थोड़ा सा टहलना महिलाओं के लिए ठीक होगा।