नई दिल्ली । महान भारतीय ऐथलीट मिल्खा सिंह ने कहा है कि ओलिंपिक पदक जीतना क्रिकेट मे जीतने से कहीं अधिक कठिन है। उन्होंने कहा कि यहां फाइनल में पहुंचना भी आसान नहीं होता। इसके साथ ही इस महान खिलाड़ी ने कहा कि टोक्यो ओलिंपिक में कोई भी ऐथलेटिक पदक मिलने की उम्मीदें नहीं हैं। मिल्खा ने कहा कि ओलिंपिक में ऐथलेटिक कुश्ती और निशाने बाजी के मुकाबले क्रिकेट की तरह आसान नहीं होते। क्रिकेट में तो पांच से सात टीमें मुकाबला करती हैं और ऐसे में हार-जीत मिलती रहती है। वहीं ओलिंपिक में खिलाड़ियों को 200 से अधिक देशों के खिलाड़ियों से मुकाबला करना होता है। 
वहीं टोक्यो ओलिंपिक में संभावनों पर उन्होंने कहा, मुझे नहीं लगता है कि टोक्यो में कोई भी भारतीय एथलीट पदक जीत पाएगा। यहां अमेरिका, केन्या, जमैका, ऑस्ट्रेलिया जैसे देश के ऐथलीट काफी आगे रहते हैं। हिमा दास और दुती चंद अच्छा कर रही हैं, पर उन्हें बेहतर ट्रेनिंग की जरूरत है। उन्होंने कहा कि ओलंपिक में पदक जीतने के लिए ऐथलेटिक्स अकादमी खोलनी होगी जिसमें अच्छे कोच रखने होंगे। बेहतर प्रशिक्षण के बल पर ही पदक जीते जा सकते हैं।