भोपाल. मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के सिंगरौली में एक सरकारी डॉक्टर (Doctor) पर कोरोना पॉजिटिव पत्नी की जानकारी छिपाने का आरोप लगा है. आरोप है कि डॉक्टर ने उत्तर प्रदेश (Uttar Prades) में एक शादी समारोह में शामिल अपनी पत्नी का सैंपल अपनी नौकरानी के नाम पर जांच के लिए भेज दिया. पत्नी में कोरोना वायरस (Coronavirus) के संक्रमण के लक्षण के बाद जांच के लिए सैंपल भेजा गया था. बताया जा रहा है कि डॉक्टर ने जानकारी छिपाने के उद्देश्य से ये कदम उठाया. उनके खिलाफ महामारी एक्ट के तहत पुलिस ने जुर्म दर्ज कर लिया है.मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक सिंगरौली के खुटार स्वास्थ्य केंद्र में तैनात बीएमओ डॉ. अभय रंजन सिंह अपने परिवार के साथ पूर्वी यूपी के बलिया में 23 जून को शादी में शामिल होने के लिए गए थे. वह 1 जुलाई को वापस आ गए, लेकिन खुद को और अपने परिवार को क्वारंटाइन करने की बजाय काम करते रहे है. इसी बीच उनकी पत्नी में कोविड-19 के लक्षण मिले. इसके बाद डॉक्टर ने अपने घर की नौकरानी के नाम पर पत्नी के नमूने जांच के लिए भेजे. सैंपल की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आने के बाद डॉक्टरों की टीम नौकरानी के घर पहुंची. इसके बाद धोखाधड़ी का खुलासा हुआ.

डॉक्टर भी कोरोना पॉजिटिव
खुलासा होने के बाद स्वास्थ्य विभाग की टीम बीएमओ डॉ. सिंह के घर पहुंची. इसके बाद परिवार के अन्य सदस्यों की भी जांच की गई. इसमें डॉ. सिंह समेत परिवार के 2 अन्य सदस्य कोरोना पॉजिटिव मिले. सिंगरौली के बैढ़न थाना प्रभारी अरुण पांडेय ने बताया कि महामारी अधिनियम और आपदा प्रबंधन अधिनियम के प्रावधानों के तहत डॉक्टर के खिलाफ एक प्राथमिकी दर्ज की गई है. एक बार जब वह वायरल संक्रमण से ठीक हो जाएंगे तो उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी. फिलहाल डॉक्टर के संपर्क में आए 33 सरकारी कर्मचारियों को क्वारंटाइन कर दिया है, जिसमें एक उप-विभागीय मजिस्ट्रेट भी शामिल हैं.