नई दिल्ली । अमेरिका की दिग्गज रिटेलर वालमार्ट ने कहा है ‎कि वह अपने ई-कामर्स कारोबार फ्लिपकार्ट में 1.2 अरब डॉलर का नया ‎निवेश करेगा। गौरतलब है ‎कि वालमार्ट ने 2018 में 24.9 अरब डॉलर के वैल्यूएशन पर फ्लिपकार्ट का अधिग्रहण ‎किया था। वालमार्ट की तरफ से ये फैसला उस समय लिया गया है जब इसकी घरेलू प्रतिस्पर्धी कंपनी रिलायंस इंडस्ट्रीज की ई-कामर्स वेंचर ‎जियोमार्ट दिग्गज निवेशकों से अरबों डॉलर का निवेश जुटा रही है। ‎जियोमार्ट में फेसबुक के 5.7 अरब डॉलर के निवेश से 9.99 फीसदी हिस्सेदारी के अधिग्रहण के बाद एक दूसरी अमेरिकन प्राइवेट इक्विटी फर्म ‎सिल्वर लेक पार्टनर्स ने ‎जियो प्लेटफार्म में 75 करोड़ डॉलर का निवेश किया। इसके बाद ‎विस्टा इ‎क्विटी पार्टनर्सने भी 1.5 अरब डॉलर के निवेश से 2.3 फीसदी हिस्सेदारी खरीदी। फ्लिपकार्ट में होने वाले इस निवेश में कंपनी के मौजूदा निवेशकों का एक ग्रुप शामिल होगा जिसकी अगुआई वालमार्ट करेगा। ये निवेश वित्त वर्ष 2021 के शेष बचे हिस्से में दो चरणों में होगा। फ्लिपकार्ट के सीईओ कल्याण कृष्णमूर्ति ने कहा कि हम अपने शेयरधारकों के मजबूत समर्थन के आभारी हैं। इस चुनौतीपूर्ण समय में भी हम अपने प्लेटफार्म का विकास कर रहे हैं भारतीय उपभोक्ताओं की बढ़ती जरूरतों को पूरा कर रहे हैं। फ्लिपकार्ट 2007 में स्थापित हुआ। फ्लिपकार्ट समूह में  फ्लिपकार्ट के अलावा इसका डिजिटल पेमेंट प्लेटफार्म फोनपे, फैशन स्पेशियालिटी साइट मिंत्रा और एक लॉजिस्टिक्स डिलिवरी सर्विस ई-कॉर्ट शामिल है। 2018 में वालमार्ट ने फ्लिपकार्ट समूह में मेजोरिटी हिस्सेदारी लेने के लिए 16 अरब डॉलर का निवेश किया।