भोपाल में जितेंद्र यादव, इंदौर में आशा पवार, जबलपुर में बैसाखू और ग्वालियर में रघुवीर को लगा पहला टीका
 

भोपाल के हमीदिया में जितेंद्र यादव को पहला टीका लगा।
प्रधानमंत्री के संदेश के बाद शुरू हो गया टीकाकरण

मध्यप्रदेश में कोरोना के खिलाफ वैक्सीनेशन आज शुरू हो गया। पहले दिन 150 सेंटर्स पर फ्रंट लाइन वर्कर्स को टीके लगाए जा रहे हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संदेश के बाद भोपाल, इंदौर, जबलपुर और ग्वालियर समेत पूरे प्रदेश में टीकाकरण शुरू हो गया। प्रत्येक सेंटर पर 100 फ्रंट लाइन वाॅरियर्स के टीकाकरण का टारगेट तय किया है। इस हिसाब से पहले दिन 15 हजार लोगों को वैक्सीन का पहला डोज दिया जाएगा। पूरे प्रदेश में सफाईकर्मियों को पहला टीका लगाया गया। इसके बाद डॉक्टर्स को टीका लगाया गया।


जिन्हें पहला टीका लगेगा, वे खुश हैं...

इंदौर की सफाई कर्मचारी आशा पवार ने कहा कि मुझे कोई घबराहट नहीं है। बल्कि खुश हूं। इंदौर के ही फ्रंट लाइन वारियर्स ने टीका लगने से पहले कहा कि कोरोना के समय लंबे समय तक ड्यूटी की है। इस बीमारी से बचने के लिए यह टीका तो सभी को लगवाना ही है। वैसे तो सुबह 8 बजे मुझे आने के लिए कहा है, लेकिन मैं सुबह 7 बजे ही पहुंच जाऊंगी।

एमवाय में आशा तो अरविंदो अस्पताल में सीमा डागर को लगा पहला टीका।

भोपाल के हरिदेव कहते हैं कि करीब ढ़ाई साल से जेपी अस्पताल में ड्यूटी कर रहा हूं। कभी नहीं सोचा था कि एक दिन ऐसा भी आएगा कि देश के प्रधानमंत्री से बात करने का मौका मिलेगा। मुझे कलेक्टर अविनाश लवानिया (हरि ने अफसर के नाम के साथ जी भी लगाया) ने बुलाकर कहा कि पहली वैक्सीन आपको (हरि सिंह) लगेगी। मैंने तत्काल हामी भर दी।


ग्वालियर में पहला वैक्सीन सफाई कर्मचारी रघुवीर, दूसरा डीन एसएन आयंगर और तीसरा जेएएच अधीक्षक आरएस धाकड़ को लगाया गया है।

ग्वालियर में पहला टीका सफाईकर्मी रघुवीर को लगाया गया।

जबलपुर में हेल्थ सेलीब्रिटी के तौर पर लोक स्वास्थ्य परिवार कल्याण के पूर्व डायरेक्टर केके शुक्ला (71) और उनकी पत्नी रीता शुक्ला के नाम का चयन हुआ है सफाईकर्मी बैसाखू पनहगार को टीका लगा।

जबलपुर में सफाईकर्मी बैसाखू को पहला टीका लगा।

उज्जैन में जिला अस्पताल में सफाईकर्मी कैलाश सिसौदिया को पहला टीका लगाया गया।