लखनऊ । मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश के विकास के लिए एक और बड़ा कदम उठाया है। प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना या मुख्यमंत्री जन आरोग्य योजना से वंचित करीब 40 लाख अंत्योदय कार्ड धारकों के परिवारों को सीएम जन आरोग्य योजना में शामिल किया जा रहा है. इस प्रस्ताव को मंत्रिपरिषद ने स्वीकृति दे दी है। उत्तर प्रदेश के गरीबों की मदद के लिए और उन्हें स्वास्थ्य सुरक्षा देने के लिए आयुष्मान भारत या प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना और मुख्यमंत्री जन आरोग्य योजना का संचालन किया जा रहा है। इसमें चिन्हित परिवारों को प्राइवेट और राजकीय अस्पतालों में प्रति परिवार प्रति वर्ष 5 लाख रुपये तक का इलाज और सुविधाएं फ्री में दिए जाने का प्रावधान है।  जानकारी के मुताबिक, मंत्रिपरिषद की बैठक में यह भी फैसला लिया गया था कि अन्त्योदय कार्डधारक परिवारों को मुख्यमंत्री जन आरोग्य योजना में शामिल किया जाना चाहिए। इस योजना के तहत अगर आवंटित बजट से ज्यादा खर्च होता है तो अनुपूरक मांग पत्र के जरिये अतिरिक्त बजट का आवंटन हो। वहीं, इस योजना में किसी भी प्रकार के बदलाव की अगर जरूरत होती है, तो मंत्रिपरिषद ने इसके लिए मुख्यमंत्री को अधिकृत किया है। बताया जा रहा है कि इस फैसले से अन्त्योदय कार्डधारक परिवारों को बीमारी में होने वाले खर्च की चिंता नहीं झेलनी पड़ेगी। उन्हें व्यय से सुरक्षा तो मिलेगी ही, साथ ही अंत्योदय कार्डधारक परिवारों को इस योजना से सीधा लाभ मिलेगा।