प्रयागराज. वैश्विक महामारी कोरोनावायरस (Pandemic coronavirus) के संक्रमण से बचाव के चलते लगाए गए देशव्यापी लॉकडाउन (Lockdown) के बाद अब देश में अनलॉक की प्रक्रिया चल रही है. अनलॉक 1.0 (Unlock 1.0) में सोमवार आठ जून से धार्मिक स्थलों के कपाट श्रद्धालुओं के लिए खोलने की अनुमति दी गई है. कोरोना काल में कपाट खुलने के बाद पड़े पहले मंगलवार को संगम स्थित बड़े हनुमान मंदिर (Hanuman Temple) में विशेष पूजा अर्चना की गई. बड़े हनुमान मंदिर के बड़े महंत और अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद (Akhil Bhartiya Akhada Parishad) के अध्यक्ष महंत नरेन्द्र गिरी (Mahant Narendra Giri) ने महाआरती की.

आरोग्य के देवता हनुमान की कोरोना के नाश के लिए प्रार्थना

लॉकडाउन के बाद कपाट खुलने के बाद महाआरती के मौके पर आरोग्य के देवता कहे जाने वाले राम भक्त हनुमान से श्रद्धालुओं और पुजारियों ने खास तौर पर कोरोना का संकट (Corona Crisis) जल्द खत्म हो इसके लिए प्रार्थना की. विशेष पूजन और महाआरती के लिए बड़े मंदिर में विराजमान लेटे हनुमान की प्रतिमा का फूलों से भव्य श्रृंगार किया गया. इसके साथ ही नाना प्रकार के फलों और कई तरह के मिष्ठान का भोग भी लगाया गया. मंदिर के महंत नरेंद्र गिरी के मुताबिक कोरोना काल में लम्बे समय के बाद मंदिर के कपाट श्रद्धालुओं के दर्शनों के लिए खोले गए हैं. इसलिए पहले मंगलवार को भव्य शृंगार और पूजा कर आरोग्य के देवता को प्रसन्न करने के लिए महाआरती की गई है. उन्होंने कहा है कि भक्तों का ऐसा विश्वास है कि हनुमान जी की पूजा अर्चना से कोरोना का संकट पूरे देश और दुनिया से जल्द खत्म हो जायेगा. मंदिर में महंत नरेंद्र गिरी के पूजा अर्चना करने और महाआरती के बाद सोशल डिस्टेंसिंग (Social Distancing) के साथ श्रृद्धालुओं ने भी हनुमान लला का दर्शन पूजन किया.