रायपुर : कोरोना वायरस वैश्विक महामारी के दौर में ‘‘दंतेश्वरी माई मितान‘‘ हितग्राहियों के घर पहुंचकर ‘बैंक संगवारी तुमचो दुवार‘ योजना के माध्यम से नगद भुगतान कर रहे है। दंतेवाड़ा जिले के चितालंका और नकुलनार से इसकी शुरुआत की गई और अब पूरे जिले में इसे कारगर ढंग से सुनिश्चित किया जा रहा है। गरीबी उन्मूलन के लिए इसका मुख्य लक्ष्य जिला निवासियों के आर्थिक, सामाजिक, स्तर में सुधार कर उन्हें सक्षम बनाना है।
    जिले में इसकी सकारात्मक पहल के फलस्वरूप सामाजिक सहायता कार्यक्रम के पेंशन हितग्राहियों को अब पेंशन के लिए बैंकों के चक्कर नहीं लगाने पड़ेंगे। ना ही मनरेगा से मिलने वाले मजदूरी के लिए भटकना पड़ेगा। समाज कल्याण विभाग की विभिन्न पेंशन योजनाओं के 18 हजार 995 पेंशनधारियों तथा राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन (एनआरएलएम) के हितग्राहियों के लिए घर पहुंच बैंक सेवा शुरू की गई है। इस पहल से सबसे अधिक राहत बुजुर्ग, महिलाओं के अलावा दिव्यांगों को मिली है। वीएलई, बैंक सीएसपी, सीएससी, बैंक सखी एवं लोक सेवा केंद्र के जरिए यह सेवा शुरू की गई है। फिलहाल 27 लोगों को इससे जोड़ा गया है, जो घर-घर जाकर पेंशन पहुंचा रहे हैं। इसी कड़ी में दंतेश्वरी माई मितान ने दंतेवाड़ा नगर के आंवराभाटा निवासी श्रीमती आंवलाबाई सोनानी पति स्वर्गीय धनुर्जय को इंदिरा गांधी राष्ट्रीय विधवा पेंशन योजनान्तर्गत 350 रूपए का नकद भुगतान किया। इस दौरान बुजुर्ग हितग्राही श्रीमती आंवलाबाई सोनानी ने घर पहुंच पेंशन भुगतान के लिए दंतेश्वरी माई मितान को आर्शीवाद देते हुए कहा कि अब बैंक जाने और बैंक में कतार लगाकर पैसा निकालने की दिक्कत दूर हो गयी है। यह हमारे जैसे बुजुर्गोंं के लिए सरकार की सराहनीय पहल है। जिले में आज ‘बैंक संगवारी तुमचो दुआर‘ योजना के तहत दंतेश्वरी माई मितान द्वारा कुल 111 हितग्राहियों को घर पहंुचकर 38 हजार 850 रूपए का नगद भुगतान किया गया। ज्ञात हो कि जिले में भविष्य में सभी पंचायतों में हितग्राहियों को इस सेवा के जरिए घर पहुंचाकर पेंशन, मजदूरी भुगतान दी जाएगी।