जयपुर. राजस्थान में कोरोना (COVID-19) एक बार फिर से बेकाबू होता जा रहा है. प्रदेश में कोरोना मरीजों की संख्या 50 हजार के करीब पहुंच चुकी है. कई शहरों में नियंत्रण से बाहर होते जा रहे कोरोना संक्रमण पर लगाम लगाने के लिए जिला प्रशासन ने फिर से सख्त कदम उठाने शुरू कर दिए हैं. दिन-प्रतिदिन हालात अनलॉक से वापस लॉकडाउन (Lockdown) की ओर बढ़ रहे हैं. सीएम अशोक गहलोत ने भी कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए अधिकारियों को साफ निर्देश दे दिये हैं कि वे प्रभावित क्षेत्रों में लॉकडाउन सहित अन्य पाबंदिया लगा सकते हैं प्रदेश में इस समय जयपुर, जोधपुर, अलवर, कोटा, बीकानेर, श्रीगंगानगर और उदयपुर में कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या बेहताशा बढ़ रही है. इसको देखते हुए स्थानीय प्रशासन लगातार सख्ती बढ़ाता जा रहा है. कोरोना संक्रमण से बेकाबू होते हालात से निपटने के लिए अलवर शहर कोतवाली क्षेत्र में गत 30 जुलाई से आगामी दो सप्ताह यानी 12 अगस्त तक फिर से संपूर्ण लॉकडाउन लगाया जा चुका है. वहीं, जिले के भिवाड़ी क्षेत्र में भी लॉकडाउन लगाये जाने की संभावनाओं से इनकार नहीं किया जा रहा है. वहां के हालात की 4 जुलाई को समीक्षा की जायेगी. उसके बाद उस पर विचार किया जायेगा.

 

कोटा में फिर की जा रही है सख्ती
कोटा शहर में 4 और 5 अगस्त को संपूर्ण लॉकडाउन रखा गया है, जबकि कोटा जिले में प्रत्येक रविवार पूरे जिले में लॉकडाउन घोषित किया जा चुका है. वहीं, श्रीगंगानगर जिले में भी गत रविवार से प्रत्येक रविवार को लॉकडाउन रखने की घोषणा कर दी गई थी. हालांकि, गत रविवार को राखी के त्योहार के मद्देनजर व्यापारियों की मांग को देखते हुए इसमें आंशिक छूट दी गई थी. लेकिन, आगामी घोषणा तक इसे लागू रखने का निर्णय किया जा चुका है. जिले में रात्रिकालीन कर्फ्यू जारी है.

 

बीकानेर और उदयपुर में भी सख्‍ती
बीकानेर शहर में भी कोरोना के हालात को देखते हुए वहां भी सख्ती की जा रही है. बीकानेर शहर के कोतवाली, कोटगेट और नया शहर क्षेत्र में 4-5 दिन पहले तक कर्फ्यू लगा रखा था. उसके बाद ईद और राखी के त्योहारी पर इसे हटा दिया गया, लेकिन उसे फिर से लागू किये जाने की संभावनाएं बनी हुई हैं. उदयपुर में रात्रिकालीन संपूर्ण लॉकडाउन लागू है, जबकि जिले का भींडर कस्बे में दिन-रात का संपूर्ण लॉकडाउन लगाया गया है.


सीएम ने की समीक्षा बैठक
सीएम अशोक गहलोत ने सोमवार रात को भी कोरोना को लेकर समीक्षा बैठक की. सीएमआर में हुई इस बैठक में चिकित्सा मंत्री डॉ. रघु शर्मा, सीएस राजीव स्वरूप सहित कोर ग्रुप और चिकित्सा विभाग के अधिकारी वीसी के जरिए जुड़े. इसमें सीएम ने अधिकारियों को छूट दी कि वे कोरोना केस बढ़ने वाले इलाकों में लॉकडाउन सहित अन्य पाबंदियां लगा सकते हैं. बैठक में इस बात को स्वीकार किया गया कि लॉकडाउन खुलने के बाद से लापरवाहियां बढ़ी हैं. राज्य में कोरोना पॉजिटिव की संख्या 45555 तक पहुंच चुकी