आमने-सामने होंगे दो दोस्त, ज्योतिरादित्य सिंधिया के खिलाफ चुनाव प्रचार करेंगे सचिन पायलट

 आमने-सामने होंगे दो दोस्त, ज्योतिरादित्य सिंधिया के खिलाफ चुनाव प्रचार करेंगे सचिन पायलटज्योतिरादित्य सिंधिया के खिलाफ सचिन पायलट को चुनाव मैदान में प्रचार के लिए उतारा जाएगा.
 

ग्वालियर में बीजेपी सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया) को मात देने के लिए कांग्रेस उनके दोस्त सचिन पायलट (Sachin Pilot) का सहारा लेगी.

भोपाल. मध्य प्रदेश में उपचुनाव  की तैयारियां जोरों पर चल रही है. उपचुनाव के रण में दो खास दोस्त आमने-सामने होंगे. ग्वालियर में बीजेपी  सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया को मात देने के लिए कांग्रेस उनके दोस्त सचिन पायलट (Sachin Pilot) का सहारा लेगी. सचिन पायलट को चुनावी मैदान में सिंधिया के गढ़ ग्वालियर चंबल में उतारा जाएगा. दावा किया जा रहा है कि प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष और पूर्व सीएम कमलनाथ ने ग्वालियर व चंबल में चुनाव प्रचार के लिए पायलट की सहमति ले ली है.

मध्य प्रदेश के उपचुनाव में बेहतर प्रदर्शन ही कांग्रेस को वापस सत्ता में ला सकती है. इसमें महत्वपूर्ण चंबल अंचल की 16 सीटें हैं, जहां ज्योतिरादित्य सिंधिया की पकड़ काफी मजबूत मानी जाती है. यहां सिंधिया के प्रभाव को कम करने के लिए ही कांग्रेस अब नए समीकरण के तहत सचिन पायलट को चुनाव प्रचार के लिए लाने की तैयारी कर रही है. ज्योतिरादित्य सिंधिया के खिलाफ सचिन पायलट चुनाव प्रचार करेंगे.

स्टार प्रचारक हैं पायलट

सचिन पायलट कांग्रेस के स्टार प्रचारक हैं और युवाओं में उनकी पकड़ मजबूत मानी जाती है. ग्वालियर में उपचुनाव के प्रचार के लिए सचिन पायलट ने सहमति दे दी है. पूर्व सीएम व पीसीसी चीफ कमलनाथ की उनसे फोन पर चर्चा हुई है. ग्वालियर चंबल की 16 सीटों पर गुर्जर वोट बैंक व युवाओं को साधने के लिए कांग्रेस ने ये प्लान तैयार किया है. सचिन पायलट के जरिए गुर्जर वोटों को साधने की कांग्रेस की कोशिश होगी. इससे पहले भी मध्य प्रदेश में सचिन पायलट चुनाव प्रचार कर चुके हैं. बता दें कि बिहार में विधानसभा चुनाव के साथ ही मध्य प्रदेश में उपचुनाव होंगे.