लखनऊ । यूपी में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले समाज के हर वर्ग और जाति के लोगों को अपने साथ जोड़ने की कवायद में भाजपा जुट गयी है। इसी क्रम में पार्टी द्वारा गुरुवार को आयोजित सामाजिक प्रतिनिधि सम्मेलन को सम्बोधित करते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने समाजवादी पार्टी का नाम लिए बिना कहा कि हमें हमेशा याद रखना होगा कि जो राम के नहीं हो सकते, वो हमारे भी किसी काम के नहीं हो सकते। उन्होंने कहा कि अगर दो नवंबर 1990 को भाजपा की सरकार होती, तो अयोध्या में कोई राम भक्तों पर गोली चलाने की हिम्मत नहीं कर सकता था। जो राम द्रोही थे, उन्होंने वोट बैंक के लिए निर्दोष कार सेवकों पर गोली कांड करने का दुस्साहस किया। जिन लोगों ने अपने राजनीतिक स्वार्थों के लिए सामाजिक ताने-बाने को छिन्न-भिन्न किया, उन्हें समाज ने इतिहास के गर्त में डालने में भी संकोच नहीं किया।
मुख्यमंत्री ने कहा कि आज शारदीय नवरात्र, रामलीला का मंचन सफलतापूर्वक हो रहे हैं। ऐसा तब हो रहा है, जब भाजपा की सरकार है। नहीं तो राम मंदिर के लिए आंदोलन करना पड़ता था। क्या राम मंदिर का निर्माण, कांग्रेस, सपा या बहन जी (मायावती) करतीं? उन्होंने कहा कि आज भारत सौ करोड़ लोगों को मुफ्त वैक्सीन देने वाला दुनिया का एकमात्र देश बना है। इसे मोदी वैक्सीन, बीजेपी वैक्सीन बताने वाले क्या माफी मांगेंगे? ये चाहते थे कि लोग मरें, धन-जन की हानि हो, अराजकता फैले। लेकिन प्रधानमंत्री के नेतृत्व में ऐसा नहीं होने पाया। उन्होंने कहा कि अगर दुर्भाग्य से कोरोना की बीमारी कांग्रेस सरकार में आई होती, तो भाई-बहन इटली भाग गए होते। अगर समाजवादी पार्टी में यह बीमारी आई हुई होती, तो चाचा-भतीजे में होड़ होती कि कौन किसी माफिया को कितना फायदा पहुंचा दे। होड़ लग जाती ठेका दिलवाने की।
उन्होंने कहा कि हमें विपक्षी नेताओं से सावधान रहना होगा। अभी आपने देखा होगा एक देशद्रोही एक पार्टी के नेता से मिले थे। भारत के टुकड़े करने की बात कहने वाले से एक पार्टी के नेता मिले। आपने देखा होगा कि उमर खालिद का परिवार यहां किस पार्टी के मंच पर आया था, किनके साथ बैठा था। हमें इन्हीं सब चीजों से सतर्क रहना होगा। व्यापारी कल्याण बोर्ड के साथ दीपावली में वोकल फॉर लोकल को सार्थक करना होगा। उन्होंने कहा कि पिछले साढ़े चार साल में आपने देखा होगा कि सत्ता की सरपरस्ती से जो माफिया तांडव करते थे, आज उन पर कार्रवाई हो रही है। इसी वजह से सरपरस्तों को परेशानी हो रही है। उत्तर प्रदेश में अपराध और अपराधियों के लिए नीति किसी से छिपी नहीं है। इसी वजह से कोई दंगा नहीं हुआ। मुख्यमंत्री ने कहा कि पिछली सरकारों में गुंडे-माफियाओं का राज था। व्यापारियों को बंधक बनाकर अराजकता फैलाई जाती थी। अब ऐसा नहीं है। हम सबकी ताकत एकता में है। एकजुट होकर जब ताकत बनेंगे, तो भारत मजबूत होगा। अगर जाति के नाम पर विभाजित होंगे, तो दंगाई मजबूत होंगे। हमको विपक्ष के इस मंसूबे को सफल नहीं होने देना है। यही आज की सबसे बड़ी जरूरत है।