लाइफस्टाइल इस कद्र भाद-दौड़ भरा हो गया है कि हर कोई इस समय तनाव महसूस कर रहा है। कोरोना काल में तो यह समस्या और भी ज्यादा बढ़ गई है लेकिन अगर यह तनाव लंबे समय तक रहे तो शरीर पर इसका बुरा असर पड़ता है, वहीं अगर आप लंबे समय से स्ट्रेस में फंसे हैं तो आपका शरीर पर भी कई तरह की संकेत देने लगता हैं। 

एक्सपर्ट की मानें तो तनाव के चलते शरीर कई तरह से प्रभावित होता है जो कई नई समस्याओं को जन्म दे सकता है। यह हार्मोंन्स लेवल, आंतों के बैक्टीरिया, दिल, नींद, दिमाग, इम्यूनिटी, एनर्जी, फर्टिलिटी और स्किन पर अपना बुरा असर डाल सकता है क्योंकि तनाव से बॉडी का स्‍ट्रेस हार्मोन कोर्टिसोल बढ़ने लगता है जो आपके मूड से लेकर ब्‍लड शुगर तक बुरा असर करता है।

1. मीठा खाने की इच्छा 
तनाव में मीठी चीजें सबसे ज्यादा आकर्षक लगती है। हाई फैट और हाई शुगर फुड्स खाने की क्रेविंग होती है। तनाव में बॉडी को ज्यादा कैलोरी की जरूरत होती हैं क्योंकि यह खाने या ना खाने पर यह आपको अगले भोजन तक एक्टिव रखने में रखने में मदद करता है।

2. मूड अशांत और चिड़चिड़ा
जब आप लंबे समय तक तनाव में रहते हैं तो व्यक्ति अलग तरह से व्यवहार करना शुरु कर देता है। ज्यादातार चिड़चिड़ापन व अंशात महसूस करते हैं। बहुत लोगों का इस स्थिति में ‌‌व्यवहार अभद्र हो जाता है। वह ना तो ठीक से सो नहीं पाते हैं। 

3. बहुत जल्दी बीमारी हो जाना 
जब कोर्टिसोल का उत्पादन बढ़ता है तो रोग से लड़ने वाले सफेद ब्लड कोशिकाओं कम होने लगती हैं। ऐसा होने पर आपके शरीर की बीमारी से लड़ने की क्षमता कम होने लगती है जिससे व्यक्ति जल्दी इंफेक्शन व अन्य प्रॉब्लम्स का शिकार होने लगता है। 

4. डाइजेशन में अजीब महसूस होना
बहुत सी महिलाओं को तनाव होने पर एसिडिटी और ब्लोटिंग की समस्या होने लगती हैं इसी के चलते उन्हें बहुत ज्यादा भूख लगती हैं और कइयों को ठूस ठूस कर खाने की इच्छा होती है वहीं कुछ को ऐंठन महसूस होती है। 

5.सेक्‍शुअल एक्टिविटी कम या ज्‍यादा होना
ऐसे स्थिति में व्यक्ति की सेक्शुअल एक्टिविटी या तो कम हो जाती हैं या ज्यादा क्योंकि तनाव आपके सेक्स हार्मोंन को इफेक्ट करता है। 

6. स्किन हो जाती है सेंसिटिव
आप सोच रहे होंगे कि तनाव के चक्कर में स्किन कैसे सेंसिटिव हो जाती हैं तो बता दें कि आंत, ब्रेन और त्वचा अंतरंग रूप से जुड़े हुए हैं। जब आंत में माइक्रोबायम बाधित हो जाता है तो इससे सूजन बढ़ती है जो ब्रेन और त्वचा सहित पूरे शरीर को प्रभावित करता है। शरीर में कोर्टिसोल का उत्पादन बढ़ता है तो तेल उत्पादन और मुंहासे की समस्या को भी बढ़ा देता है। 

7. बाल झड़ने व सफेद होने
ऐसा एकदम नहीं बल्कि तनाव के कुछ महीने बाद दिखता है। बाल पतले होने लगते या झड़ने लगते हैं। यहां तक बाल तेजी से सफेद होने भी शुरु हो सकते हैं। 

8. बॉडी पेन को सहन नहीं कर पाना 
स्टडी के अनुसार, जब व्यक्ति तनाव में होता है तो वह दर्द के प्रति उसकी सहनशीलता कम हो जाती है। पुराना दर्द इन समय के दौरान बढ़ जाता है ऐसा कोर्टिसोल हार्मोन की उथल-पुथल के चलते होता है। 

9. रोजमर्रा के काम में दिक्कत 
रोजमर्रा के छोटे-छोटे काम में दिक्कत आने लगती हैं क्योंकि तनाव आपके दिमाग पर असर करता हैं तो आपको हर छोटे-बड़े काम में दिक्कत आती है।  

अगर आपको भी ऐसा कोई लक्षण दिखाई दे तो तुरंत डाक्टरी सलाह लें।