रायपुर. छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के पहले मुख्यमंत्री अजीत जोगी (Ajit Jogi) की हालत चिंताजनक बनी हुई है. विशेषज्ञ चिकित्सक अजीत जोगी के स्वास्थ्य पर लगातार नजर रखे हुए हैं. अजीत जोगी का रायपुर के श्री नारायणा अस्पताल में इलाज चल रहा है. शुक्रवार को अस्पताल की तरफ से जारी मेडिकल बुलेटिन में बताया गया कि अस्पताल के चीफ इंटेनसिविस्ट डॉ. पंकज उमर, न्यूरोलॉजिस्ट डॉ. छत्रपाल सिंह साहू, डॉ. रेणु जोगी और बेटे अमित जोगी ने कॉन्फ्रेंस कॉल से अपोलो हॉस्टिपल हैदराबाद के वरिष्ठ न्यूरोलॉजिस्ट डॉ. संदीप नयनी से अजीत जोगी के मस्तिष्क के इलाज के संबंध में विस्तार से चर्चा की.

श्री नारायणा अस्पताल के डायरेक्टर डॉ. सुनील खेमका के हवाले से जारी ताजा हेल्थ बुलेटिन में बताया गया है कि अजीत जोगी का स्वास्थ्य अभी हिमो डायनामिकली स्थिर है. उनका ब्लड प्रेशर, हार्ट रेट और किडनी का फंक्शन नियंत्रण में है. हालांकि वे अभी भी कोमा में ही हैं. डॉक्टर्स की टीम उनके ब्रेन को एक्टिव करने की कोशिश कर रही है. राईल्स ट्यूब के माध्यम से उन्हें खाना दिया जा रहा है.

डॉक्टरों की टीम कर रही मॉनिटर

अभी तक की अजीत जोगी की सभी जांच रिपोर्ट भी हैदराबाद के वरिष्ठ न्यूरोलॉजिस्ट डॉ. संदीप नयनी को बताई गई है. चर्चा बाद सभी डॉक्टर इस बात से सहमत रहे कि वर्तमान में चल रही अजीत जोगी की इलाज प्रक्रिया को ही अभी आगे जारी रखा जाए और उनकी लगातार निगरानी की जाए. वहीं अस्पताल की ओर से  22 मई की मेडिकल बुलेटिन में बताया गया है कि  अजीत जोगी अभी कोमा में चल रहे हैं. उनके ब्रेन को एक्टिव करने की हर संभव कोशिश डॉक्टरों की टीम कर रही है.
लेकिन पिछले 12 दिनों से उनके मष्तिक में किसी भी प्रकार की हलचल होती नजर नहीं आ रही है. कई प्रकार की मष्तिक से संबंधित थेरपी को अजीत जोगी के मष्तिक को जागृत करने के लिए इस्तेमाल किया गया है लेकिन किसी प्रकार से कोई गतिविधि मष्तिक में होती दिख नहीं रही है. इसलि डाक्टरों की चिंता बढ़ती जा रही है. अजीत जोगी का स्वास्थ्य अभी स्थिर है. उन्हें वेंटिलेटर के माध्यम से सांस दिया जा रहा है.