हमारे शरीर में लीवर का स्थान अहम होता है। लीवर विषाक्त पदार्थों को नष्ट करने में अहम भूमिका निभाता है। आज हम जिस जीवनशैली में जी रहे हैं और जिस तरह के विषाक्त वातावरण में रह रहे हैं उसमें इसकी भूमिका और भी महत्वपूर्ण हो जाती है।अगर कोई खराबी होती है तो पहला असर लिवर पर पड़ता है और ज्यादा विषाक्त पदार्थों के कारण फैट सेल्स ज्यादा हो जाते है जो कि पेट के आसपास के क्षेत्र में ज्यादा होते हैं।
जब आपके लिवर में अतिरिक्त फैट जमा हो जाता है या जितनी लिवर को जरूरत हो उस हिसाब से 5-10 प्रतिशत ज्यादा हो जाता है। लिवर की बिमारी दो प्रकार की होती है: एल्कोहलिक और नॉन-एल्कोहलिक। एल्कोहलिक पूरी तरह से शराब के अत्यधिक सेवन के कारण होती है और नॉन-एल्कोहलिक कोलेस्ट्रोल लेवल्स और जेनेटिक्स के मूवमेंट्स के कारण होती है।
इन संकेतों से जानिए कि कहीं आपके लिवर में टॉक्सिन्स तो नहीं:
अचानक वजन बढ़ना
जब लिवर ने अच्छी तरह से टॉक्सिन्स से छुटकारा नहीं पाया हुआ हो तो आप बॉडी को कितना भी फिट रखने के लिए कुछ भी कर लें, उससे कुछ नहीं होगा। कारण यही है कि आपके लिवर के अंदर फैट मौजूद है और साथ ही अनफिल्टर्ड टॉक्सिन्स भी। जब लिवर टॉक्सिन्स को सुचारू रूप से फिल्टर नहीं करता है तो सभी फैट जो सर्कुलेट होते हैं, वापस लौट आते हैं।
एलर्जी 
एक लिवर जो ठीक से काम कर रहा है, एंटीबॉडीज को रिलीज करता है जो एलर्जी को नष्ट करता है। जब यह अच्छी स्थिति में नहीं है, तो शरीर उन एलर्जी को संचय करने की कोशिश करता है और मस्तिष्क हिस्टामाइन पैदा कर लेता है, जो फिर से एलर्जी के लक्षणों को उत्तेजित करता है जैसे खुजली, सिरदर्द आदि।
अत्यंत थकावट
टॉक्सिन्स मांसपेशियों में दर्द और थकान का कारण बन सकता है जिससे मूड स्विंग्स और डिप्रेशन को बढ़वा मिल सकता है।
अत्यधिक पसीना आना
जब लिवर अधिक काम करता है, जिस तरह से यह कार्य कम हो जाता है और लिवर बहुत गर्म हो जाता है। यह गर्मी पूरे शरीर में जाती है और आपको अत्यधिक पसीना आता हैं।
मुंहासे की उपस्थिति
लिवर की खराबी के कारण हार्मोनल असंतुलन मुंहासे पैदा कर सकता है। यदि ये मुंहासे की समस्याएं लिवर के कारण होती हैं तो उनका बाह्य रूप से इलाज नहीं किया जा सकता है और उचित लिवर ट्रीटमेंट आवश्यक है।
सांसों की बदबू
यदि आप हमेशा अपनी ओरल हाइजिन का ख्याल रखते हैं और अभी भी आपने नोटिस किया है कि आपकी सांसों में बदबू है तो यह एक लिवर की समस्या हो सकती है और आपको डॉक्टर के पास जाना चाहिए।