वाशिंगटन । अर्थसंकट और भुखमरी का सामना कर रहे वेनेजुएला में भोजन और दवाओं की मदद करने के तरीके को लेकर अमेरिका और रूस के बीच ठन गई है। यह तनाव उस वक्त और बढ़ गया जब रूस ने देश के राष्ट्रपति निकोलस मादुरो के जरिए राहत भेजने का संकल्प लिया। जबकि मादुरो ने अमेरिका द्वारा भेजी गई मदद को रोक दिया है। इसके चलते अमेरिका ने वेनेजुएला पर नए प्रतिबंध लगा दिए। बता दें कि देश में विपक्ष के नेता जुआन गोइदो के खुद को अंतरिम राष्ट्रपति घोषित करने और अमेरिका समेत कुछ देशों से उन्हें मान्यता मिलने के बाद देश में आंतरिक तनाव के हालात हैं। यहां तक कि अमेरिका और यूरोपीय देशों द्वारा संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में पेश किए प्रस्ताव पर चीन और रूस वीटो ताकत का इस्तेमाल कर चुके हैं। इसके एक दिन बाद मादुरो पर अमेरिकी नेतृत्व वाले काफिले को रोकने के लिए छह सैन्य अधिकारियों को निशाना बनाने का आरोप भी अमेरिका ने लगाया। इस बीच रूस के विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव ने कहा कि हम वेनेजुएला में गेहूं व दवाइयां भेज रहे हैं। वेनेजुएला पर अब सामने से हमला हो रहा है और उसके घरेलू मामलों में हस्तक्षेप किया जा रहा है। ऐसे में इस सहयोग का महत्व बढ़ गया हैं। जबकि दूसरी तरफ मादुरो के सुरक्षा बलों ने अमेरिका द्वारा भेजे गए 178 टन चावल, फलियां और अन्य खाद्य पदार्थ सीमा पर रोक दिए थेऔर इस कारण हुए संघर्ष में चार लोगों की मौत हो गई थी।