नई दिल्ली । भारत के अनुभवी मुक्केबाज शिव थापा की नजरें महीने 24 अक्टूबर से सर्बिया में होने वाली विश्व मुक्केबाजी चैंपियनशिप में पदक जीतने पर लगी हैं। लाइट वेल्टरवेट (63.5 किग्रा) में सभी को उनकी जीत की उम्मीद रहेगी। थापा पांच बार के एशियाई चैंपियन भी हैं। थापा ने कहा, सबसे अधिक अनुभवी होने के कारण उनसे उम्मीदें भी ज्यादा हैं। मेरा मानना है कि टीम में सकारात्मक बनी रहनी चाहिये। टोक्यो ओलंपिक में जगह बनाने में नाकाम रहे थापा ने हाल में बेल्लारी में राष्ट्रीय चैंपियनशिप में खिताब जीता था। वह विश्व चैंपियनशिप में दो पदक जीतने वाले पहला भारतीय पुरुष मुक्केबाज बनना चाहते हैं। 
थापा ने कहा, हमारी टीम वास्तव में अच्छी है। मुझे विश्वास है कि हम सभी अच्छा प्रदर्शन करेंगे। यह मेरी तीसरी विश्व चैंपियनशिप है और अगर मैं पदक जीतता हूं तो यह यादगार बन जाएगी। उन्होंने कहा कि मैंने जितनी भी राष्ट्रीय चैंपियनशिप में हिस्सा लिया उनमें यह सबसे कड़ी थी। शायद इसलिए कि स्वर्ण पदक विजेता को विश्व चैंपियनशिप के लिये चुना जाना था लेकिन मैंने किसी भी प्रतिद्वंद्वी के खिलाफ इसे हल्के से नहीं लिया।