नई दिल्ली
टाटा स्टील  ने अपने कर्मचारियों को वित्त वर्ष 2019-20 के लिए 235.54 करोड़ रुपये बोनस देने की घोषणा की है। कंपनी ने एक बयान में बताया कि इस बारे में प्रबंधन और यूनियन के बीच सहमति बन गई है। समझौते पर प्रबंधन की ओर से प्रबंध निदेशक टीवी नरेंद्रन और टाटा वर्कर्स यूनियन की ओर से अध्यक्ष आर रवि प्रसाद ने हस्ताक्षर किए।

कंपनी ने कहा कि कोरोना वायरस महामारी के कारण कंपनी के लिए यह मुश्किल साल रहा है लेकिन कर्मचारियों को बोनस देने के तीन साल के वादे को पूरा करने के लिए यह फैसला किया गया है। कंपनी को पिछली दो तिमाहियों में नुकसान हुआ है। चालू वित्त वर्ष की अप्रैल-जून तिमाही में कंपनी को 4,648.13 करोड़ रुपये का घाटा हुआ। इससे पहले पिछले वित्त वर्ष की अंतिम तिमाही में कंपनी को 1615.35 करोड़ रुपये का घाटा हुआ था।

किसको कितना मिलेगा बोनस
समझौते के मुताबिक, इस वर्ष 235.54 करोड़ रुपये कर्मचारियों में बंटेंगे। इसमें जमशेदपुर यूनिट और ट्यूब डिवीजन समेत 12807 कर्मचारियों के बीच 142.05 करोड़ रुपये बंटेंगे। इस वर्ष कर्मचारियों को ग्रेड रिवीजन के एरियर की राशि पर भी बोनस दिया गया है।
जमशेदपुर यूनिट व ट्यूब डिवीजन के कर्मचारियों को इस वर्ष एरियर की राशि पर 212.71 करोड़ रुपये एवं वित्तीय वर्ष 2019-20 के वार्षिक बेसिक और डीए पर वार्षिक बोनस 888.13 करोड़ रुपये दोनों मिलाकर 1100.84 करोड़ रुपये पर बोनस राशि मिलेगी।

पिछले वर्ष 239.61 करोड़ बोनस मिला था
पिछले वर्ष 239.61 करोड़ रुपये बोनस मिला था, जिसमें जमशेदपुर व ट्यूब डिवीजन के 13675 कर्मचारियों के बीच 131.22 करोड़ की राशि बंटी थी। प्रतिशत में गणना के आधार पर 15.86 प्रतिशत बोनस मिला था। एनएस ग्रेड कर्मचारियों को न्यूनतम 34764 रुपये व अधिकतम 63945 रुपये मिले थे। पिछले वर्ष 1510.67 करोड़ पर कुल बोनस का निर्धारण हुआ था। पिछले वर्ष 24 सितंबर को बोनस समझौता हुआ था।