अफगानिस्तान | पर कब्जा कर लेने वाले तालिबान के असली रंग अब दिखने लगे हैं। यहां से अब चौंकाने वाली तस्वीरें सामने आ रही हैं। हाल ही में पश्चिमी प्रांत हेरात में तीन लोगों को फांसी पर लटका दिया गया। द सन की रिपोर्ट में इन तस्वीरों में जानकारी देते हुए बताया कि ये तीन लोग वही हैं जिन पर अपहरण में शामिल होने का आरोप लगाया गया था।

द टैब्लॉइड ने डिप्टी गवर्नर मावलवी शिर अहमद मुहाजिर के हवाले से बताया कि तीन लोगों को एक घर में घुसकर लूटपाट करने के बाद मार दिया गया था। द सन ने यह भी बताया कि हेरात के ओबे जिले में सार्वजनिक रूप से तीन लोगों को फांसी दी गई और वहां मौजूद लोगों को गले से लटके शवों की तस्वीर लेते देखा गया।

अपराध-विरोधी विभाग के नूर अहमद रब्बानी ने कहा कि पिछले सप्ताह में तालिबान ने 85 कथित अपराधियों को गिरफ्तार किया है, जिनमें से कुछ छोटे-मोटे अपराधों के आरोपी हैं, और अन्य हत्या, अपहरण और डकैती के आरोपी हैं।

काबुल में कम से कम दो मौकों पर, छोटे चोरों को शर्मसार करने के लिए सड़कों पर घुमाया गया। हथकड़ी लगाई गई, उनके चेहरों को रंगा गया या उनके मुंह में बासी रोटी भर दी गई। तालिबान के कब्जे के बाद अफगानिस्तान के लोगों को तालिबान की कठोर सजाओं के वापस आने का डर था. अपने पहले शासन में भी तालिबान ने कठोर सजाएं लागू की थीं।

काबुल में रहने वाले लोगों के लिए लड़ाकों का यू बंदूक लेकर घूमना काफी डरावना है। पारंपरिक पोशाक, लंबे बाल व राइफल साथ लिए घूमने वाले तालिबान के लड़ाकों से लोगों को डर लगता है।