भोपाल : गृह मंत्री डॉ. नरोत्‍तम मिश्रा ने समाज में जाति, धर्म तथा अन्‍य आधारों पर वैमनस्य पैदा करने वाले विघटनकारी तत्‍वों को चिन्हित कर कठोर कार्यवाही के लिये अभियान चलाये जाने की आवश्यकता जताई। वे शुक्रवार को पुलिस मुख्‍यालय में ''अनुसूचित-जाति और अनुसूचित-जनजाति वर्गों के प्रति संवेदनशीलता'' विषय पर आयोजित दो दिवसीय वेबिनार के समापन अवसर पर सम्बोधित कर रहे थे। उन्‍होंने अनुसूचित जाति-जनजाति अत्याचार निवारण अधिनियम अंतर्गत 205 प्रकरणों में 291 हितग्राहियों को एक करोड़ 65 लाख 70 हजार रूपये की अनुग्रह राशि उनके खातों में सिंगल क्लिक से अंतरित की। इस अवसर पर पुलिस महानिदेशक श्री विवेक जौहरी, अतिरिक्त मुख्य सचिव गृह डॉ. राजेश राजौरा, प्रमुख सचिव आदिम जाति कल्याण श्रीमती पल्लवी जैन गोविल, अतिरिक्‍त पुलिस महानिदेशक अजाक श्रीमती प्रज्ञा ऋचा श्रीवास्‍तव एवं अन्य अधिकारीगण मौजूद थे।

मंत्री डॉ. मिश्रा ने विभागीय अधिकारियों द्वारा अनुसूचित जाति-जनजाति के पीड़ित परिवारों को त्वरित न्याय दिलाने के लिये चलाये गये अभियान की प्रशंसा की। उन्होंने कहा कि इन वर्गों के पीड़ितों को शीघ्र न्याय मिलने और दोषियों को दण्डित होने से समाज में बेहतर संदेश जायेगा। इसके साथ ही समाज को राजनीतिक स्वार्थों या तुच्छ हितों की प्राप्ति के लिये विघटित करने की कोशिश करने वाले तत्वों को चिन्हांकित कर अभियान चलाकर कार्यवाही करना भी समय की आवश्यकता है। उन्होंने आशा जताई कि भविष्य में इस प्रकार के अभियान भी विभाग द्वारा चलाये जायेंगे, जिससे भविष्य में समाज को विघटित करने वाली ताकतों को सिर उठाने का मौका न मिल सके।

मंत्री डॉ. मिश्रा ने भोपाल जोन के राजगढ़, सीहोर, विदिशा एवं भोपाल जिले के अनुसूचित जाति-जनजाति के हितग्राहियों से वर्चुअली बातचीत कर उनका हालचाल जाना और आश्वस्त किया कि सरकार उनके साथ है। इसके पूर्व पुलिस महानिदेशक श्री जौहरी ने कार्यशाला के उद्देश्यों पर प्रकाश डाला। एडीजी अजाक श्रीमती श्रीवास्तव ने दो दिवसीय वेबिनार की गतिविधियों के बारे में विस्तार से अवगत कराया।