भोपाल : दिव्यांग बच्चों को शिक्षा के क्षेत्र में शासन द्वारा संचालित योजनाओं का शत-प्रतिशत लाभ प्राप्त होना चाहिये। हम सब इस पुनीत कार्य से जुड़े हैं, यह हमारे लिए गर्व की बात होना चाहिए। समावेशित शिक्षा व्यवस्था में संवेदनशीलता का विशेष ध्यान रखे। संचालक राज्य शिक्षा केन्द्र श्री धनराजू एस आइकफ आश्रम में दिव्यांग बच्चों की शिक्षा के लिए कार्यरत विकासखण्ड स्रोत समन्वयकों के प्रशिक्षण सत्र का समापन कर रहे थे। विकासखंड स्तर पर कार्यरत मोबाइल स्रोत सलाहकारों का सभी 21 प्रकार की दिव्यांगता वाले बच्चों की शिक्षा के लिए यह विशेष प्रशिक्षण 25 से 28 अक्टूबर की अवधि में था। प्रशिक्षण में 26 जिलों के 183 मोबाइल स्रोत सलाहकार शामिल हुए।

यह प्रशिक्षण सत्र भारत सरकार के क्षेत्रीय विकलांग पुनर्वास केन्द्र, खजूरी कला, एल्लिमको जबलपुर और स्वयंसेवी संस्था साइट सेवर्स के प्रशिक्षकों के सहयोग से हुआ। दिव्यांग जन-अधिकार अधिनियम 2016,  विभिन्न दिव्यांगता वाले बच्चों की समावेशित शिक्षा व्यवस्था, समावेशित स्रोत केन्द्र, समावेशित शाला का संचालन, गम्भीर दिव्यांग बच्चों की शिक्षा, गृह आधारित शिक्षा, बाधारहित शैक्षिक वातावरण निर्माण आदि विषयों का प्रशिक्षण दिया गया। सहभागियों से सुझाव भी प्राप्त किए गए।