बेंगलुरु । पुणे के सिरम इंस्टीट्यूट में भीषण आग हादसे के बाद गुरुवार रात कर्नाटक की राजधानी बेंगलुरु से लगभग साढ़े तीन सौ किलोमीटर की दूरी स्थित शिवमोगा जिले में एक जोरदार धमाके में 8 लोगों की दर्दनाक मौत हो गई। पुलिस के मुताबिक 'शिवमोगा में जिलेटिन ले जा रहे एक ट्रक में धमाका हुआ, जिसके बाद स्थानीय लोगों ने इसकी तेज आवाज और धरती का कंपन महसूस किया।' शिवमोगा का ये ब्लास्ट कितना खतरनाक था, इसकी तस्दीक उन तस्वीरों से हो रही है जो कि हादसे के बाद सामने आई हैं। इन तस्वीरों में कुछ इमारतों के शीशे टूटे हुए दिख रहे तो सड़क भी टूटी हुई नजर आ रही है।शिवमोगा के जिलाधिकारी शिवकुमार ने कहा है कि यह हुनासोडु गांव में एक रेलवे क्रशर साइट पर हुआ डायनामाइट का धमाका था, जिसमें कम से कम 8 लोगों की मौत हो चुकी है। यह धमाका शिवमोगा शहर से करीब 5-6 किलोमीटर की दूरी पर हुआ था। अभी पुलिस मौके पर है और इलाके की घेराबंदी कर दी गई है। इलाके में अभी आग की लपटें उठ रही हैं और धुएं के कारण यहां पर जाना मुश्किल है। ऐसे में अधिकारी फिलहाल रेस्क्यू ऑपरेशन के लिए यहां पर पहुंचने की कोशिश में जुटे हुए हैं, लेकिन पहले मौके की सही स्थिति का पता लगाया जा रहा है।
शिवमोगा के बाहरी इलाके में हुए धमाके के कारण कई दुकानों के शीशे चटक गए। इसके अलावा आसपास के लोगों ने रात के वक्त ऐसी आवाज और धरती का हिलना सोचकर यह माना कि यह घटना भूकंप की है। हालांकि कुछ देर बाद इस बात का पता चला कि असल में ट्रक के धमाके के कारण यहां की धरती हिल गई थी। बताया जा रहा है कि धमाका इतना तेज था कि पास की तमाम इमारतों के शीशे टूट गए। इसके अलावा कई मकानों की छत को भी नुकसान पहुंचा। धमाके के बाद स्थानीय लोग अपने घरों से बाहर निकल आए और काफी देर तक इलाके में डर का माहौल बना रहा। पुलिस ने बताया कि हादसे के बाद मौके पर 8 लोगों की मौत की सूचना मिली है। हालांकि शिवमोगा ग्रामीण के विधायक केबी अशोक नायक ने कहा कि जो ट्रक हादसे का शिकार हुआ है, उसमें एक दर्जन मजदूरों के होने की बात सामने आई है। 

 

पीएम मोदी ने जताया दुख, सीएम ने दिए उच्चस्तरीय जांच के आदेश :
कर्नाटक के शिवमोगा जिले में हुई दर्दनाक घटना पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दुख प्रकट किया है। पीएम ने कहा शिवमोगा की घटना सुनकर बेहद दुख हुआ। शोक संतप्त परिवारों के प्रति संवेदना। ईश्‍वर से प्रार्थना है कि घायल जल्द ठीक हो जाएं। राज्य सरकार प्रभावितों को हर संभव सहायता प्रदान कर रही है। धमाके में आठ लोगों की मौत होने की बात कही जा रही है, लेकिन आधिकारिक पुष्टि अभी तक सिर्फ 2 मजदूरों के मरने की हुई है। ये धमाका इतना जबरदस्‍त था कि आसपास के क्षेत्र में झटके महसूस किए गए। ऐसे में लोगों को लगा कि भूकंप के कारण झटके लग रहे हैं। आज सुबह पुलिस और वरिष्‍ठ अधिकारियों ने शिवमोगा ज़िले के हुनासोंडी गांव में विस्फोट वाली जगह का निरीक्षण किया। ये जानने का प्रयास किया कि आखिर दुर्घटना की वजह क्‍या रही। इस दौरान शिवमोगा के सांसद बीवाई राघवेंद्र भी मौके पर मौजूद रहे। मुख्‍यमंत्री बीएस येदियुरप्‍पा ने घटना की उच्चस्तरीय जांच के आदेश दिए हैं।शिवमोगा के कलेक्टर केबी शिवकुमार ने बताया, 'शुरुआती जांच में अब तक यह पता चल पाया है कि यहां खड़ी गाड़ी में विस्फोटक थे। यह पता लगाया जा रहा है कि उन्हें यहां क्यों लाया गया था। अब तक हमने 2 शव बरामद किए। यह सार्वजनिक रूप से प्रसारित किया जा रहा है कि 10-15 लोगों की मृत्यु इस धमाके में हो गई है, लेकिन यह किसी भी तथ्य से प्रमाणित नहीं है। पुलिस ने जांच शुरू कर दी है, उन्होंने थोड़ी प्रगति की है। हमने बम निरोधक दस्ते की मदद भी ली है, ताकि वे यहां आ सकें और तकनीकी रूप से हमारी मदद कर सकें कि घटना क्यों हुई। ये विस्‍फोट बीती रात लगभग 10.20 बजे हुई। सीएम बीएस येदियुरप्पा ने ट्वीट किया, 'इस दुर्भाग्यपूर्ण घटना की उच्चस्तरीय जांच के आदेश दिए गए हैं और दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।'


राहुल ने जताया दुख, गहन जांच की मांग की :
कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने कर्नाटक के शिवमोगा जिले में हुए विस्फोट की घटना पर शुक्रवार को दुख व्यक्त किया और कहा कि भविष्य में ऐसी घटनाओं को रोकने के लिए इस मामले की गहन जांच की जरूरत है। उन्होंने ट्वीट किया, ‘कर्नाटक में विस्फोट की खबर दुखद है। पीड़ितों के परिवारों के प्रति मेरी संवेदना है। इस तरह की घटनाओं की गहन जांच होनी चाहिए ताकि भविष्य में ऐसी घटनाओं को होने से रोका जा सके।