भोपाल. कोरोना संक्रमण (corona) के दौरान दिन-रात सख्त ड्यूटी कर रहे पुलिस (police) वालों की उनके परिवार को चिंता सताने लगी है. उन्होंने अपनी चिंता से मध्य प्रदेश राज्य मानवाधिकार आयोग (State Human Rights Commission of Madhya Pradesh ) को भी वाकिफ करा दिया है. आयोग को व्हाट्स एप पर शिकायत मिली थी. इसमें कहा गया है कि कोरोना ड्यूटी में लगाए गए पुलिस स्टाफ की ख्याल नहीं रखा जा रहा है. शिकायत मिलते ही आयोग ने फौरन होम डिपार्टमेंट से जवाब मांग लिया. होम डिपार्टमेंट ने भी तत्काल जवाब दिया कि हमें अपने जवानों की चिंता है.मध्य प्रदेश राज्य मानव अधिकार आयोग को व्हाट्सएप पर एक शिकायत मिली.इसमें बताया गया कि कोरोना ड्यूटी में तैनात पुलिस अधिकारी कर्मचारियों की सुरक्षा का ख्याल नहीं रखा जा रहा है. शिकायत मिलते ही आयोग फौरन हरकत में आया और गृह विभाग से रिपोर्ट तलब की.गृह विभाग ने भी सफाई देने में देर नहीं की. उसने फौरन आयोग को बताया कि कोरोना ड्यूटी में तैनात अपने स्टाफ के लिए उसने क्या उपाय किए हैं.मध्य प्रदेश राज्य मानवाधिकार आयोग ने कोरोना संक्रमण के दौरान ड्यूटी पर तैनात पुलिस अधिकारियों कर्मचारियों की सुरक्षा को लेकर गृह विभाग के प्रमुख सचिव और डीजीपी से चार बिंदुओं पर रिपोर्ट मांगी थी. भोपाल के सतविंदर सिंह लल्ली ने व्हाट्सएप पर आयोग के अध्यक्ष नरेंद्र कुमार जैन को एक आवेदन भेजा था. उसी पर आयोग ने गृह विभाग से जानकारी मांगी थी.

पुलिस सुरक्षा के लिए क्या किया?
अपर सचिव गृह आर आर भोंसले ने ईमेल के जरिए 4 बिंदुओं पर रिपोर्ट भेजी है. उसमें ड्यूटी पर तैनात पुलिस के लिए 2,19,542 मास्क और 1,38,330 ग्लब्स देने का ज़िक्र है. मास्क और ग्लब्स अच्छी क्वालिटी के हैं. साथ ही अच्छी क्वालिटी की 29309 पीपीई किट भी पुलिस जवानों को दी गयी हैं. रिपोर्ट में बताया गया कि अभी तक कोरोना से 60 पुलिस कर्मचारी अधिकारी संक्रमित हो चुके हैं. ड्यूटी पर तैनात जिन पुलिस कर्मियों पर हमला किया गया. उन आरोपियों पर सख्त कार्रवाई करने की जानकारी भी इस रिपोर्ट में दी गयी है.