नई दिल्‍ली। सार्वजनिक क्षेत्र के सबसे बड़े बैंक स्‍टेट बैंक ऑफ इंडिया (एसबीआई) और आईसीआईसीआई बैंक ने सेविंग अकाउंट पर ब्याज दरें घटा दी हैं। एसबीआई ने बचत खातें पर सालाना ब्याज दर में 0.05 फीसदी की कटौती की है, जो घटकर 2.70 फीसदी पर आ गई है। नई दरें 31 मई से लागू हो गई हैं। वहीं, आईसीआईसीआई बैंक ने भी बचत खाते पर ब्याज दर में 0.25 फीसदी की कटौती की है। नई दरें 4 जून से लागू होंगी।

आईसीआईसीआई बैंक में भी कम मिलेगा ब्याज आईसीआईसीआई बैंक ने 50 लाख रुपये से कम की सभी जमाओं पर ब्याज दर को 0.25 फीसदी घटाकर 3.25 से 3 फीसदी कर दिया है। वहीं, 50 लाख रुपये या उससे अधिक की जमा पर ब्याज दर को 3.75 से घटाकर 3.50 फीसदी किया है। गौरतलब है कि एसबीआई ने अप्रैल महीने में भी बचत खाते पर मिलते वाले ब्याज में 0.25 फीसदी की कटौती की थी।

कोविड‑19 की महामारी के कारण देशव्‍यापी लॉकडाउन के बीच सार्वजनिक और निजी क्षेत्र के बैकों द्वारा बचत खाते पर ब्‍याज दरों में कटौती पर एक्‍सपर्ट का कहना है कि पर्याप्त नकदी की स्थिति के बीच नए लोन की मांग कम होने की वजह से बैंक जमा पर ब्याज दरों में कटौती कर रहे हैं। बता दें कि हाल ही में सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक पंजाब नेशनल बैंक और कोटक महिंद्रा बैंक ने भी ब्‍याज दम में कटौती की थी।

उल्‍लेखनीय है कि पीएनबी ने बचत खाते पर मिलने वाली ब्याज दर में 0.50 फीसदी की कटौती की है। पीएनबी के बचत खाते में 50 लाख रुपये तक के बैलेंस पर 3 फीसदी सालाना और 50 लाख से ज्यादा के बैलेंस पर 3.25 फीसदी सालाना के हिसाब से ब्याज मिलेगा। 1 जुलाई से बैंक के बचत खाते पर अधिकतम 3.25 फीसदी का सालाना ब्याज मिलेगा। इसके अलावा कोटक महिंद्रा बैंक ने मई में बचत खाते पर मिलने वाले ब्याज में कटौती की थी। अब एक लाख रुपये तक के जमा पर 3.50 फीसदी और एक लाख रुपये से ज्यादा जमा होने पर 4 फीसदी सालाना ब्याज दे रहा है, जबकि इससे पहले एक लाख रुपये तक के जमा पर 3.75 फीसदी और एक लाख रुपये से ज्यादा के जमा पर 4.50 फीसदी ब्याज मिल रहा था।