नई दिल्‍ली । निजी क्षेत्र की हवाई सेवा देने वाली हवाई कंपनी स्पाइसजेट ने अपने चेक-इन काउंटर का इस्तेमाल करने वालों से सर्विस चार्ज वसूलने का फैसला किया है। इसके लिए कंपनी अब यात्रियों से 100 रुपये फीस लेगी। हालांकि, स्‍पाइसजेट ने हवाई यात्रियों के लिए वेब चेक-इन अनिवार्य कर दिया है। लोगों को ऑनलाइन चेक-इन करने के लिए स्‍पाइसजेट की आधिकारिक वेबसाइट या ऐप पर विजिट करना होगा। उड़ान भरने के 60 मिनट पहले यात्रियों को फ्री में बोर्डिंग पास मिल जाएगा। स्‍पाइसजेट ने कहा है कि अगर कोई यात्री वेब चेक-इन नहीं करना चाहता है तो एयरपोर्ट पर कंपनी के चेक-इन काउंटर का इस्‍तेमाल कर सकता है। हालांकि, इसके लिए यात्री को 100 रुपये फीस का भुगतान करना होगा। इसके पहले इंडिगो ने 17 अक्टूबर से ऐसी सर्विस लागू कर दी है। कंपनी ने एयरपोर्ट पर चेक-इन करने के लिए 100 रुपये फीस वसूलना शुरू कर दिया है। इंडिगो ने कहा है कि हम सरकार के निर्देशों के मुताबिक यात्रियों को वेबसाइट या मोबाइल ऐप से वेब चेक-इन के लिए प्रोत्साहित कर रहे हैं।
इंडिगो के एयरपोर्ट काउटंरों पर चेक-इन फीस सभी बुकिंग पर लागू है। कंपनी ने 17 अक्टूबर से सर्विस चार्ज लागू कर दिया है। स्पाइसजेट ने 5 नवंबर से भारत और बांग्लादेश के बीच एयर बबल समझौते के तहत 8 नई फ्लाइट्स की घोषणा भी की है। इनमें कोलकाता और चटगांव के बीच हफ्ते में 4 बार नॉन-स्टॉप उड़ान शुरू की जाएंगी। साथ ही दिल्ली, कोलकाता और चेन्‍नई से ढाका के लिए डायरेक्‍ट फ्लाइट सर्विस भी शुरू होगी। स्पाइसजेट भारत से बांग्‍लादेश के बीच सभी रूट्स पर बोइंग 737 और बॉम्बार्डियर क्यू400 एयरक्राफ्ट को तैनात करने जा रही है। बता दें कि केंद्र सरकार ने कोरोना वायरस महामारी के चलते दो महीने की रोक के बाद 25 मई से डॉमेस्टिक फ्लाइट्स शुरू करने की मंजूरी दी थी। नागरिक विमानन मंत्रालय ने कोरोना वायरस के चलते वेब चेक अनिवार्य कर दिया है।