मुंबई । बॉलिवुड ऐक्ट्रेस सोनाली बेंद्रे ने कहा कि वह पैसे कमाने के लिए फिल्मों में आईं बाद में उन्हें इस पेशे से प्यार हो गया। उन्होंने कहा कि यही वह जहां उन्होंने खुद को ढूंढा और अपने परिवार और दोस्तों से मिलीं। उन्होंने कहा कि उन्हें बॉलिवुड इसलिए भी पसंद है कि मानसिक रूप से और साथ ही रचनात्मक रूप से सबसे शानदार जगह है। सोनाली ने कहा कि फिल्मों में उनकी एंट्री बिल्कुल सही जगह पर और सही समय पर हुआ। उन्होंने कहा कि जब एक्टिंग के प्रस्ताव आए तो उन्हें पता था कि किसी भी अन्य क्षेत्र में वह उतना पैसा नहीं कमा सकती हैं, जितना यहां कमा सकती हैं। इसलिए उन्होंने फिर दोहराया कि शायद इसीलिए वह बॉलिवुड में आईं, हालांकि बाद में उन्हें इस इंडस्ट्री से प्यार हो गया। बता दें कि सोनाली बेंद्रे अमेरिका में कैंसर के इलाज के बाद लौटी हैं। उन्होंने बताया कि इलाज के दौरान पुस्तकों ने उन्हें ताकत दी और उन्हें बचाए रखा। सोनाली ने कहा ‎कि "जब मैं अपने जीवन के सबसे कठिन चरणों में से गुजर रही थी, पुस्तकों ने मुझे ताकत दी।" बेंद्र ने कहा कि बचपन से ही पुस्तकों से उनका लगाव रहा है। उन्होंने बताया ‎कि जब मैं बड़ी हो रही थी तब किताबें मेरी बहनों के अलावा मेरी दोस्त थीं। जब मैं फिल्मों में आई तो यह किसी दूसरे ग्रह पर होने जैसा था। एक ऐसी दुनिया में किताबें ही हैं, जिन्होंने मुझे जमीन पर बनाए रखा। सोनाली ने कहा ‎कि "कभी-कभी आप किसी किताब को पूरा न करके खुद को आंकने लगते हैं। लेकिन मैं एक ऐसे मुकाम पर पहुंच गई हूं, जहां मैं समझती हूं कि मैं एक किताब प्रेमी हूं। लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि मुझे सभी किताबें पसंद आएंगी। यदि आपको कोई पुस्तक पसंद नहीं है तो इसमें कुछ गलत नहीं है।"