महाराष्ट्र भारत का एक ऐसा राज्य है, जो ना सिर्फ अपने संस्कृति पहलुओं के लिए जाना जाता है बल्कि कई मशहूर कई ऐतिहासिक जगहों के लिए मशहूर है। इसके अलावा, महाराष्ट्र कई प्राचीन और ऐतिहासिक किलों के लिए भी जाना जाता है। लेकिन महाराष्ट्र के किलों में सबसे प्रसिद्ध विजयदुर्ग किला है। 

 ये किला पूरे भारत में अपनी खूबसूरत वास्तुकला के लिए जाना जाता है। इसलिए आज हम आपको महाराष्ट्र में स्थित विजयदुर्ग किले से जुड़े कुछ रोचक तथ्यों के बारे में बताने जा रहे हैं। इसके इतिहास को जानने के लिए बाद इस किले की सैर करने में यकीनन आपको बहुत मज़ा आएगा।

विजयदुर्ग का इतिहास 

महाराष्ट्र के इस किले का निर्माण 1193 से लेकर 1205 के बीच किया गया था। इसका निर्माण राजा भोज ने करवाया था, जिसे विजय किले के नाम से भी जाना भी जाता है। इसके अलावा, ये किला तीनों और से समुद्र ट्रेस घिरा हुआ है। इसलिए इसे 'जिब्राल्टर ऑफ ईस्ट' के नाम से भी जाना जाता है। 

इतिहासकारों के अनुसार प्राचीन काल में ये किला सिंधुदुर्ग जिले के लिए एक सीमा का काम करता था, जो दुश्मन को आने से रोकता था। क्योंकि ये किला समुद्र तट पर बना हुआ है, जिसकी वजह से सिंधुदुर्ग जिला दुश्मनों की नजरों से छुपा हुआ रहता था। हालांकि, कहा जाता है कि 1653 में मराठा साम्राज्य के राजा शिवाजी ने आदिलशाह से इस किले को जीत लिया था। फिर 17 वीं शताब्दी में, शिवाजी महाराज ने किले की दीवारों, मीनारों को और मजबूत बनवाया था। 

कैसी है बनावट?

महाराष्ट्र का ये किला भारत के सबसे मजबूत और खूबसूरत किलों में से एक है। क्योंकि ये महाराष्ट्र के समुद्र तट के पास स्थित है। ये किला लगभग 40 किलोमीटर के दायरे में फैला हुआ है, जो सिंधुदुर्ग जिले में स्थित है। इस किले अंदर लगभग 27 गढ़ हैं और ये 17 एकड़ भूमि में फैला हुआ है। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि ये किला बहुत पुराना है और उसकी संरचना भी काफी प्राचीन है। 

लेकिन इस किले की संरचना काफी खूबसूरत और आकर्षित है। क्योंकि किले की दीवारों (काली चट्टान) को कई खूबसूरत डिजाइन और शिलालेखों से सजाया गया है। इस किले में आपको काफी कुछ देखने और समझने का मौका मिलेगा। आप किले के अंदर और इसके आसपास कई तरह की गुफाएं, झील और एक प्राचीन सुरंग भी देख सकते हैं। अगर आप इतिहास को जानने में रुचि रखते हैं, तो इस किले को एक्सप्लोर करना आपके लिए बेस्ट रहेगा। हालांकि, इस किले की वास्तुकला और खूबसूरती देखने में आपको पूरे 3 घंटे लग जाएंगे। 

क्या है खास

विजयदुर्ग किला एक प्राचीन और ऐतिहासिक किला है। यह व्यापक रूप से अपनी खूबसूरत वास्तुकला के लिए जाना जाता है। यह महाराष्ट्र के सबसे बड़े और पुराने किले में से एक है। 

इस किले को घूमने के अलावा, आप महाराष्ट्र की संस्कृति और फेमस व्यंजनों का भी लुत्फ उठा सकते हैं। यह शहर विश्व भर में अपनी हस्तशिल्प कलाओं के बारे लिए भी जाना जाता है। हालांकि, महाराष्ट्र में मौजूद सभी किलों में विजयदुर्ग का किला सबसे ज्यादा प्रसिद्ध है।

कब बनाएं प्लान 

इस किले को घूमने का सबसे अच्छा समय अक्टूबर और मार्च के बीच है लेकिन इस किले को देखने और घूमने का असली मजा सर्दियों में ही आता है।  

कैसे जाएं विजयदुर्ग किला 

महाराष्ट्र का विजयदुर्ग किला शहर के रेल सड़क और हवाई मार्ग से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। आप एसटी बस से यहां जा सकती हैं क्योंकि आप मुंबई और गोवा के रास्ते से यहां आसानी से पहुंच सकते हैं। 

इसके अलावा, अगर आप रेलवे से यात्रा करने की सोच रहे हैं, तो आप राजापुर के रेलवे स्टेशन उतर सकती हैं। फिर वहां से किराए की गाड़ी से आप आसानी से इस जगह को एक्सप्लोर कर सकते हैं।