जम्मू । शनिवार से केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह जम्मू-कश्मीर के तीन दिन के दौरे पर हैं। जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटने के बाद केंद्र शासित प्रदेश की यह उनकी पहली यात्रा है। श्रीनगर हवाई अड्डे पर उप राज्यपाल मनोज सिन्हा ने शाह का स्वागत किया,इस मौके पर प्रशासन के अन्य वरिष्ठ अधिकारी भी मौजूद थे। अपने दौरे के दौरान नौगाम में केंद्रीय गृह मंत्री शाह ने इंस्पेक्टर परवेज अहमद जिनकी आतंकियों द्वारा हत्या कर दी गई थी, उनके घर जाकर परिज़नों से मुलाकात कर डार की पत्नी फातिमा अख्तर को सरकारी नौकरी देने का वादा किया।
शाह ने शहीद इंस्पेक्टर अहमद के परिजनों से कहा कि मुझे व पूरे देश को उनकी बहादुरी पर गर्व है।हम हमेशा जम्मू कश्मीर पुलिस और परवेज अहमद के सर्वोच्च बलिदान को याद रखने वाले है। अमित शाह ने कहा कि मोदी जी ने जो नए जम्मू कश्मीर की कल्पना की है, उस साकार करने के लिए जम्मू-कश्मीर पुलिस पूरी तन्मयता से प्रयासरत है।
पांच अगस्त, 2019 को अनुच्छेद 370 को निरस्त करने और जम्मू कश्मीर राज्य को दो केंद्र शासित प्रदेशों में विभाजित करने के बाद शाह की यह पहली कश्मीर यात्रा है। शाह के घाटी दौरे से पहले पूरे कश्मीर में सुरक्षा कड़ी कर दी गई है। अधिकारियों ने इसकी जानकारी दी। उन्होंने बताया कि शहर में जवाहर नगर स्थित भारतीय जनता पार्टी कार्यालय के चारों ओर कड़ी सुरक्षा व्यवस्था की गई है। उन्होंने बताया कि शाह के वहां का दौरा करने की संभावना है। अधिकारियों ने बताया कि इसी तरह से शेर ए कश्मीर इंटरनेशनल कंवेशन सेंटर जाने वाली सड़कों को शनिवार से तीन दिनों के लिए बंद कर दिया गया है।