ओस्ट्रावा। भारत की स्टार टेनिस खिलाड़ी सानिया मिर्जा ने सत्र का पहला व अपने करियर का 43वां डब्ल्यूटीए खिताब जीता। रविवार को उन्होंने अपनी चीन की जोड़ीदार शुआई झांग के साथ मिलकर डब्ल्यूटीए 500 ओस्ट्रावा ओपन के महिला डबल्स फाइनल में केटलिन क्रिस्टियन और एरिन रोटलिफ की जोड़ी को एकतरफा अंदाज में हराया।
सानिया ने अपने करियर में डब्ल्यूटीए 500 स्तर के टूर्नामेंट का कुल दूसरा, जबकि 2018 में मां बनने के बाद कोर्ट पर वापसी करते हुए उनका पहला खिताब है। भारत और चीन की दूसरी वरीय जोड़ी ने अमेरिका की क्रिस्टियन और न्यूजीलैंड की रोटलिफ की तीसरी वरीय जोड़ी को खिताबी मुकाबले में एक घंटा और चार मिनट में 6-3, 6-2 से शिकस्त दी।
मैच के पहले सेट में चार गेम तक स्कोर 2-2 की बराबरी पर था तभी सानिया और झांग की जोड़ी ने पहले अपनी सíवस पर पांचवां गेम जीतकर स्कोर 3-2 किया और उसके बाद छठे गेम में केटलिन और रोटलिफ की सíवस तोड़ते हुए सानिया और झेंग की जोड़ी ने 4-2 की बढ़त बना ली, जिससे यह जोड़ी पहले सेट को 6-3 से अपने नाम करने में कामयाब रही।दूसरे सेट में सानिया और झांग की जोड़ी विरोधियों पर अधिक भारी पड़ी और दो बार उनकी सर्विस तोड़ते हुए दूसरे सेट को 6-2 से अपने नाम कर लिया। इस तरह खिताबी जीत भारत और चीन की खिलाड़ी वाली जोड़ी ने हासिल की। सानिया मिर्जा काफी समय से बड़े टूर्नामेंट की जीत की तलाश में थी, जो अब आकर पूरी हो सकी है।