रूस ने कोविड -19  के वैक्सीन (coronavirus vaccine) स्पूतनिक V का पहला बैच अपने नागरिकों के लिए जारी कर दिया है। रूसी स्वास्थ्य मंत्रालय ने इसकी जानकारी दी कि जल्द ही क्षेत्रीय डिलीवरी की योजना है। इस वैक्सीन को गैमलेया नेशनल रिसर्च सेंटर ऑफ एपिडेमियोलॉजी एंड माइक्रोबायोलॉजी और रूसी डायरेक्ट इनवेस्टमेंट फंड (आरडीआईएफ) द्वारा विकसित किया गया है।

स्वास्थ्य  मंत्रालय ने एक बयान में कहा, "चिकित्सा नियामक रोजज़्रवनादज़ोर की प्रयोगशालाओं में गुणवत्ता परीक्षण पास करने के बाद Sputnik V  को सिविल सर्कुलेशन के लिए जारी किया गया है।" रूसी स्वास्थ्य मंत्रालय ने 11 अगस्त को  कोविड -19 के वैक्सीन Sputnik V  को रजिस्टर्ड किया था। रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने खुद इसका ऐलान करते हुए कहा कि उनके देश ने कोरोना वायरस की पहली वैक्सीन बना ली है। उन्होंने यह भी बताया था कि उनकी बेटी को भी यह टीका लगाया गया है।

मास्को के मेयर सर्गेई सोबयानिन ने रविवार को उम्मीद जताई कि रूसी राजधानी के अधिकांश निवासियों को कुछ महीनों के भीतर कोरोना वायरस का टीका लगाया जाएगा। स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, देश के अन्य हिस्सो में भी वैक्सीन के पहले बैच की सप्लाई जल्द ही करने की योजना है। 

वैश्विक महामारी कोरोना वायरस संक्रमण से दुनियाभर में हुई कुल मौतों का आंकड़ा सोमवार को 890000 को पार कर गया। अमेरिका की जॉन हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी के विज्ञान एवं इंजीनियरिंग केन्द्र (सीएसएसई) की ओर से जारी आंकड़ों के अनुसार, कोरोना से मरने वालों की कुल संख्या बढ़कर 890064 हो गई है जबकि इस महामारी से संक्रमितों का आंकड़ा बढ़कर 2,72,17,700 पहुंच गया है।

कोरोना वायरस संक्रमण के मामले में अमेरिका सबसे बुरी तरह प्रभावित है और यहां अबतक 6,297,021 संक्रमित मामले सामने आए हैं, जबकि 189,122 लोगों की मौतें हो चुकी हैं। भारत अब कोरोना केस के मामले में ब्राजील को पछाड़ दुनिया में दूसरे नंबर पर आ गया है।