मुंबई  । इंडियन प्रीमियर लीग राजस्थान रॉयल्स ने दिल्ली कैपिटल्स को 3 विकेट से हरा दिया। इस लो-स्कोरिंग मैच में दिल्ली की हार की मुख्य वजह तलाशी जाए तो ज्यादातर वजहों के मुख्य किरदार के रूप में युवा कप्तान ऋषभ पंत ही सामने दिखते हैं। पंत के पास बल्लेबाजी, विकेटकीपिंग और कप्तानी के रूप में तीन मुख्य जिम्मेदारी थी और तीनों ही भूमिका में उनसे बड़ी गलती हुई। दिल्ली को आखिरकार इसका खामियाजा भुगतना पड़ा और लगभग हाथ आ चुके दो पॉइंट छिटककर राजस्थान की झोली में जा गिरे।
सिंगल के गलत कॉल के कारण रन आउट हुए
टॉस गंवाकर पहले बल्लेबाजी करते हुए दिल्ली की टीम तीन विकेट पर 36 रन बनाकर गहरे संकट में थी। खुद पंत ने अर्धशतक जमाकर टीम को संभाला। लेकिन, जब वे 51 रन बनाकर खेल रहे थे तब रियान पराग के ओवर में सिंगल का गलत कॉल कर दिया। पराग ने उन्हें डायरेक्ट थ्रो पर रन आउट कर दिया। उस समय 12.4 ओवर ही हुए थे। पंत अगर कुछ देर और क्रीज पर टिकते तोे दिल्ली के टोटल में 20-25 रन का और इजाफा होना तय था।
हड़बड़ाहट में क्रिस मौरिस को रन आउट करने से चूके
ऋषभ पंत से दूसरी बड़ी गलती बतौर विकेटकीपर हुई। राजस्थान की पारी के 18वें ओवर की पहली गेंद पर पंत के पास मौरिस को रन आउट करने का मौका था। लेकिन, पंत जल्दबाजी कर बैठे और बॉल को ठीक से गैदर नहीं कर पाए। उन्हें स्टंप्स जरूर उखाड़े लेकिन उस वक्त बॉल उनके ग्लव्स में नहीं बल्कि ग्राउंड पर जा गिरी थी। इसके बाद मौरिस ने बेहतरीन पारी खेलते हुए 4 छक्के की मदद से 36 रन बना डाले और राजस्थान की जीत का खाता खोल दिया।
3 ओवर में सिर्फ 14 रन देने वाले अश्विन को चौथा ओवर नहीं दिया
ऋषभ पंत से मैच में सबसे बड़ी गलती गेंदबाजों के ओवर काउंट करने में हुई। ऑफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन ने अपने 3 ओवर मेें सिर्फ 14 रन दिए थे। वे दिल्ली की ओर से सबसे किफायती गेंदबाज थे। इसके बावजूद पंत ने उन्हें चौथा ओवर नहीं दिया। अन्य सभी गेंदबाज बाद में महंगे साबित हुए। मैच के बाद कोच रिकी पोंटिंग ने भी स्वीकार किया कि अश्विन को पूरे चार ओवर न देना बड़ी भूल साबित हुई।