नई दिल्‍ली। रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (आरबीआई) के गवर्नर शक्तिकांत दास बैंक प्रमुखों के साथ आज शनिवार को बैठक करेंगे। दास वित्तीय क्षेत्र की स्थिति का जायजा लेने और कोरोना-19 की महामारी और देशव्‍यापी लॉकडाउन से उत्पन्न संकट के बीच उद्योग जगत को बढ़ावा के लिए उठाए जाने वाले कदमों पर चर्चा करने के लिए यह बैठक बुलाई है।

बैंक प्रमुखों के साथ होने वाली इस बैठक में आरबीआई के द्वारा घोषित कई उपायों के क्रियान्वयन की समीक्षा की जाएगी। इनमें मुख्‍य रूप से ब्याज दर में संशोधन और उपभोक्ताओं तक इसका लाभ पहुंचने के साथ उद्योग जगत की मदद के लिए नकदी डालने के लिए किए गए उपाय शामिल हैं।

संकट से जूझ रहे छोटे एवं मध्यम उद्योग और ग्रामीण क्षेत्र की मदद के लिए किए गए उपायों की भी इस बैठक में समीक्षा की जायेगी। इस बीच, सरकार ने लॉकडाउन को 4 मई से दो और सप्ताह के लिये बढ़ाने की शुक्रवार को घोषणा की है।

उल्‍लेखनीय है कि संक्रमण से मुक्त क्षेत्रों और जिलों के लिए पाबंदियों में ढील दी गई है। गृह मंत्रालय ने लाल, नारंगी तथा हरे क्षेत्रों में जोखिम के आधार पर विस्तारित लॉकडाउन के दौरान गतिविधियों को विनियमित करने के लिए नए दिशानिर्देश जारी किए। वहीं, रिजर्व बैंक ने कर्जदारों लोनदाताओं और म्यूचुअल फंड सहित अन्य संस्थाओं के दबाव को कम करने के लिए भी कई कदमों की घोषणा की है। इसके अलावा जरूरत पड़ने पर अतिरिक्त पहल का वादा किया है। गौरतलब है कि आरबीआई ने नकदी की स्थिति से निपटने के लिए फरवरी 2020 की मौद्रिक नीति समिति की समीक्षा बैठक के बाद सकल घरेलू उत्‍पाद (जीडीपी) के 3.2 फीसदी के बराबर नकदी अर्थव्यवस्था में डाली है।