नई दिल्ली | चीन की बेचैनी और आपत्ति के बावजूद भारत सीमा पर सड़कों का काम तेजी से निपटाने में जुटा हुआ है। बॉर्डर रोड आर्गेनाइजेशन (बीआरओ) ने कहा है कि लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल (एलएसी) और लाइन ऑफ कंट्रोल (एलओसी) पर चल रहे प्रॉजेक्ट्स को हर हाल में समय पर पूरा किया जाएगा। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने मंगलवार को साउथ ब्लॉक में इन प्रॉजेक्ट्स की समीक्षा की। बीआरओ चीफ ले. जनरल हरपाल सिंह और दूसरे सीनियर अधिकारियों ने रक्षामंत्री को प्रॉजेक्ट्स की प्रगति के बारे में बताया।

एक घंटे से अधिक समय तक चली बैठक में बीआरओ चीफ ले. जनरल हरपाल सिंह ने रक्षामंत्री राजनाथ हिंस को चीन और पाकिस्तान सीमा पर बन रही सड़कों का ब्योरा दिया। बीआरओ चीफ ने रक्षामंत्री को बताया कि एलएसी और एलओसी पर प्रॉजेक्ट्स को पूरा करने के लिए कोई प्रयास नहीं छोड़ा जाएगा। उन्होंने बताया कि रक्षा, गृह और सड़क परिवहन मंत्रालय एक साथ मिलकर सभी प्रॉजेक्ट्स पर काम कर रहे हैं।

गौरतलब है कि भारत एलएसी पर तेजी से सड़कों और इन्फ्रास्ट्रक्चर का निर्माण कर रहा है, इसी वजह से चिढ़े चीन ने अपने सैनिकों को पूर्वी लद्दाख में एलएसी पर भेज दिया था। लेकिन सेना ने सड़कों और पुल का निर्माण जारी रखा है। चीन पहले ही सीमा के नजदीक सड़कों का जाल बिछा चुका है, लेकिन एलएसी के इस पार चल रहे प्रॉजेक्ट्स से उसे दिक्कत है।