शबरी रोजाना प्रभुराम की राह में फूल बिछाती और जैसे ही उन्होंने प्रभुराम को उनकी कुटिया के नजदीक आते देखा तो वो भावुक होकर रो पड़ी। उनकी कुटिया में रखे बेरों को वो चख-चख के प्रभुराम को खिलाने लगी। इस दृश्य को देखकर दर्शक भावुक हो गए। वहीं लंका दहन के समय दर्शक इतने अधिक रोमांचित हो गए कि जोर-जोर से प्रभु श्रीरामचंद्र की जय, पवनसुत हनुमान की जय का उद्घोष करने लगे।

प्रतीकात्मक रूप में हुआ लंका दहन
लालकिला मैदान में चल रही लवकुश रामलीला कमेटी के अध्यक्ष अशोक अग्रवाल ने कहा कि सरकारी दिशानिर्देशों के चलते इस बार हमने छठे दिन लंका दहन के मंचन के दौरान बिल्कुल आतिशबाजी का प्रयोग नहीं किया है। सिर्फ प्रतीकात्मक रूप से लंका दहन का आयोजन किया गया लेकिन इसे भव्यता लाइट व साउंड की वजह से मिल पाई है। बता दें कि रावण के किरदार में जैसे ही बॉलीवुड के स्टार जस्सी सिंह उतरे और उन्होंने कहा लंकेश हूं मैं, यह सुनते ही दर्शकों ने जमकर तालियां बजाईं। वहीं बॉलीवुड अभिनेता मुश्ताक खान रावण के सेनापति के रोल में खूब जमे। इसके अलावा मनीष चतुर्वेदी, प्रेरणा चतुर्वेदी व गगन अलग-अलग किरदारों में नजर आए। लीला में राम आगमन, बाली वध, सीता का हनुमान जी को चूडामणि देने के दृश्यों का भी खूबसूरत मंचन किया गया। वहीं श्रीनवयुवक रामलीला कमेटी कश्मीरी गेट में भरत मिलाप, सुर्पणनखा की नाक काटना, खरदूषण वध का मंचन किया गया। जबकि विष्णु अवतार रामलीला कमेटी शास्त्री पार्क में राम-केवट संवाद, दशरथ मरण, भरत मिलाप से सीता हरण तक का मंचन किया गया।

दशहरा में पहुंचेगें मुख्यमंत्री अपने मंत्रियों संग
लवकुश रामलीला कमेटी के कॉर्डिनेटर मंत्री अंकुश अग्रवाल ने बताया कि 15 अक्तूबर को दशहरा उत्सव में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल सहित दिल्ली सरकार के कई मंत्री व 7 यूरोपीय देशों के राजदूत भी रामलीला का मंचन देखने आ रहे हैं।