नई दिल्ली। सोमवार की शाम भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल और चीन के विदेश मंत्री वांग यी के बीच हुई चर्चा के अगले ही दिन कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने नरेंद्र मोदी सरकार पर हमला बोला है। उन्होंने सरकार से पूछा है कि आखिर क्यों चीन को भारत की सीमा में 20 भारतीय जवानों की हत्या को उचित ठहराने की इजाजत दी गई? राहुल गांधी ने ट्वीट कर कहा, "राष्ट्रीय हित सर्वोपरि है। भारत सरकार क का कर्तव्य इसकी रक्षा करना है। फिर, 1. यथा पूर्व स्थिति बनाए रखने पर जोर क्यों नहीं दिया गया? चीन को हमारे क्षेत्र में 20 निहत्थे जवानों की हत्या को सही ठहराने की अनुमति दी गई? 3 - गलवान घाटी की क्षेत्रीय संप्रभुता का कोई उल्लेख क्यों नहीं किया गया?" 
राहुल गांधी का यह बयान भारत-चीन के बीच एलएसी पर पीछ हटने के लिए बनी सहमति के बाद आया है। कल अजीत डोभाल और चीनी विदेश मंत्री के बीच काफी देर तक इस मामले पर चर्चा हुई। इसके बाद चीनी सैनिक धीरे-धीर पीछे हटने लगे हैं।
इससे पहले भारतीय जनता पार्टी (BJP) के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने ट्वीट कर कांग्रेस के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी के बयान पर पलटवार किया था। उन्होंने कहा कि था कि रक्षा संबंधी संसद की स्थाई समिति की बैठक में कभी नहीं गए और रक्षा मामलों और सेना पर हर रोज सवाल उठाते हैं।
बता दें कि राहुल गांधी कि चीनी घुसपैठ के मुद्दे पर लगातार केंद्र सरकार पर हमला बोल रहे हैं। शनिवार को उन्होंने कहा कि देशभक्त लद्दाखवासी चीनी घुसपैठ के खिलाफ आवाज उठा रहे हैं और सरकार को उनकी सुननी चाहिए क्योंकि यदि उनकी बात को नजरअंदाज किया गया तो देश को इसकी भारी कीमत चुकानी पड़ेगी।