जयपुर/अजमेर. किसान आंदोलन के समर्थन में कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) शनिवार को अजमेर में ट्रैक्टर रैली करेंगे. वह अजमेर के रूपनगढ़ में ट्रैक्टर मार्च की अगुवाई करेंगे, इस दौरान वह खुद भी ट्रैक्टर की स्टेयरिंग संभालेंगे. इससे पहले राहुल सुरसुरा में लोकदेवता तेजाजी के मंदिर भी जाएंगे. जहां पर वह पूजा-अर्चना करेंगे. राजनीतिक पंडितों ने राहुल के इस दौरे को 'एग्रो-स्प्रीच्युअल पॉलिटक्स' का नाम दिया है. 2018 के विधानसभा चुनावों के बाद राहुल गांधी एक बार फिर से सॉफ्ट हिंदुत्व मॉडल के तहत टेंपल रन की तरफ लौट रहे हैं.

इससे पहले कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी शुक्रवार को दौरे के पहले दिन दो स्थानों पर किसान महापंचायत की. पहली हनुमानगढ़ के पीलीबंगा में दूसरी श्रीगंगानगर के पदमपुरा में. उन्होंने नए कृषि कानूनों को लेकर उन्होंने मोदी सरकार पर जमकर हमला बोला. उन्होंने कहा कि मोदी सरकार ने पहले दिन से ही झटके दिए. नोटबंदी, जीएसटी और अचानक लॉकडाउन लगाकर. अब वह कह रहे हैं कि कृषि कानून से किसानों को ऑप्शन मिलेगा. हां, उन्होंने ऑप्शन दिया, पहला भूख, दूसरा बेरोजगारी और तीसरा आत्महत्या.

राहुल गांधी की ट्रैक्टर रैली मनोरंजन मात्र है- पूनिया
भारतीय जनता पार्टी (BJP) के प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया ने कहा है कि कांग्रेस नेता राहुल गांधी की होने वाली ट्रैक्टर रैली जनता का मनोरंजन मात्र है। पूनिया ने कहा कि दिसंबर 2018 में भी उन्होंने कई रैलियां की और उस दौरान दस दिनों में ही 29 लाख किसानों का ऋण माफ करने की बात कही थी, लेकिन प्रदेश में कांग्रेस राज के बावजूद अब तक 99 हजार करोड़ रुपये का कर्ज किसानों का माफ नहीं किया जा सका. उन्होंने कहा कि गांधी को प्रदेश के दो दिवसीय दौरे में कर्जमाफी के वादे पर स्पष्टीकरण देना चाहिए. उन्होंने कांग्रेस पर किसानों के नाम पर अवसरवाद की राजनीति करने का भी आरोप लगाया.


ये रहेगा राहुग गांधी का कार्यक्रम
दोपहर 12 बजे किशनगढ़ पहुचेंगे. इसके बाद 12.30 बजे सुरसुरा में लोकदेवता तेजाजी के मंदिर जाएंगे.
1.15 बजे अजमेर के रूपनगढ में ट्रैक्टर मार्च की अगुवाई करेंगे, खुद राहुल गांधी ट्रैक्टर चलाएंगे.
इसके बाद 2.45 बजे नागौर जिले के मकराना में किसान रैली को संबोधित करेंगे.