भोपाल । राजधानी के निजी स्कूल साढ़े तीन माह से बंद हैं, फिर भी पूरी फीस लेने के ‎लिए छात्रों पर दबाव डाला जा रहा है। ऐसे निजी स्कूलों में भेल स्थित जवाहर लाल नेहरू स्कूल और श्यामलाहिल्स स्थित बाल भवन स्कूल भी हैं। जवाहर लाल नेहरू स्कूल के 30 बच्चों के अभिभावक स्कूल के प्राचार्य से मिलने पहुंचे तो मुख्य गेट बंद कर दिया गया। इसके बाद अभिभावकों ने स्कूल के बाहर और भेल शिक्षा मंडल के मुख्य गेट पर प्रदर्शन कर हंगामा किया। जवाहर लाल नेहरू स्कूल के छात्रों के अभिभावकों ने शिकायत की है कि शासन के आदेश के बाद पांचवीं कक्षा तक के बच्चों की ऑनलाइन कक्षाएं समाप्त कर दी गई हैं, लेकिन स्कूल प्रबंधन उनसे शिक्षण शुल्क के साथ-साथ अन्य शुल्क मांग रहा है। वहीं जिला शिक्षा अधिकारी (डीईओ) के पास मंगलवार को तीन स्कूलों के खिलाफ शिकायत पहुंची है। इसमें कॉर्मल कॉन्वेंट स्कूल के अभिभावकों ने फीस वृद्धि को लेकर शिकायत की है। वहीं श्यामला हिल्स स्थित बाल भवन स्कूल के विद्यार्थियों के अभिभावकों ने नो स्कूल, नो फीस के मुद्दे को लेकर प्रदर्शन किया और डीईओ के पास शिकायती आवेदन दिया। पालक महासंघ के महासचिव प्रबोध पंड्या का कहना है कि निजी स्कूलों के खिलाफ फीस को लेकर नो फीस, नो स्कूल अभियान चलाया जा रहा है। इस अभियान का अभी तक करीब 10 हजार से अधिक अभिभावकों का समर्थन मिला है। इस बारे में डीईओ नितिन सक्सेना का कहना है ‎कि भेल स्थित कॉमर्ल कॉन्वेंट स्कूल के अभिभावकों ने फीस वृद्धिको लेकर शिकायत की है। वहीं बाल भवन स्कूल के खिलाफ भी शिकायत मिली है। स्कूलों से पिछले साल और इस साल के फीस की सूची मंगाकर जांच करेंगे। फीस संबंधी मामला न्यायालय में विचाराधीन है। उधर भेल शिक्षा मंडल के स‎चिव आशुतोष चटर्जी का कहना है कि इस मामले को लेकर भेल शिक्षा मंडल के मैनेजमेंट से बातचीत कर निर्णय लिया जाएगा।