नई दिल्ली |  दिल्ली कैपिटल्स के कप्तान श्रेयस अय्यर ने चेन्नई सुपरकिंग्स के खिलाफ 44 रन से आसान जीत का श्रेय पूरी टीम को देते हुए शुक्रवार को कहा कि कगिसो रबाडा और एनरिच नॉर्टजे जैसे तेज गेंदबाजों की मौजूदगी में वह स्वयं को भाग्यशाली कप्तान मानते हैं। दिल्ली ने पहले बल्लेबाजी का न्योता मिलने के बाद तीन विकेट पर 175 रन बनाए और इसके बाद चेन्नई को सात विकेट पर 131 रन पर रोक दिया। दिल्ली की पारी का आकर्षण पृथ्वी शॉ के 64 रन रहे और उन्हें बाद में मैन ऑफ द मैच भी चुना गया जबकि गेंदबाजी में कगिसो रबाडा (26 रन देकर तीन) और एनरिच नोर्जे (21 रन देकर दो) ने प्रभाव छोड़ा।

अय्यर ने कहा कि मैं भाग्यशाली हूं कि हमारी टीम में रबाडा और नॉर्टजे जैसे तेज गेंदबाज हैं। उन्हें यह बताने की जरूरत नहीं पड़ती की क्या करना है। टीम का इकाई के तौर पर प्रदर्शन करना और एक दूसरे की सफलता का लुत्फ उठाना महत्वपूर्ण है। उन्होंने कहा कि हमने आसानी से जीत दर्ज करने का फैसला किया था। हमने परिस्थितियों का अच्छी तरह से आकलन करने का फैसला किया था। विकेट धीमा खेल रहा था। सलामी बल्लेबाजों ने जिस तरह से शुरुआत की उससे हमारा मनोबल बढ़ा और हमने अच्छी तरह से अंत भी किया।
दिल्ली की फील्डिंग हालांकि अच्छा नहीं रही और उसने कुछ आसान कैच छोड़े। अय्यर ने हालांकि अपने फील्डरों का बचाव किया। अय्यर ने कहा कि रोशनी आंखों पर पड़ने के कारण कैच करना आसान नहीं है। ऐसे में आप कुछ अवसरों पर गेंद का सही अनुमान नहीं लगा पाते। आप सुनिश्चित नहीं होते कि आपको कैच करने के लिए कहां पर खड़ा होना है।

चेन्नई के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी लगातार दूसरे मैच में बल्लेबाजों की नाकामी से निराश दिखे और उन्होंने कहा कि सात दिन के विश्राम से उन्हें कमियों का पता करने में मदद मिलेगी। धोनी ने कहा कि मुझे नहीं लगता कि यह हमारे लिए अच्छा मैच था। ओस नहीं थी लेकिन विकेट थोड़ा धीमा हो गया था। हमारे बल्लेबाजी विभाग में थोड़ी कमी लगी और यह आहत करने वाला है। धीमी शुरुआत के कारण रन रेट बढ़ने से दबाव बढ़ता है। हमें इसका हल निकालना होगा।
उन्होंने कहा कि हमें अगले सात दिन आराम करने का मौका मिलेगा और हमें स्पष्ट तस्वीर के साथ वापसी करनी होगी। (अंबाती) रायडु के अगले मैच में वापसी से टीम संतुलन बेहतर होगा। धोनी अपने गेंदबाजों के प्रदर्शन से भी खुश नहीं दिखे। उन्होंने कहा कि अगर आप गेंदबाजी विभाग पर गौर करो तो उनमें निरंतरता का अभाव दिखा है। रायडु को अगले मैच में खेलना चाहिए और तभी हम अतिरिक्त गेंदबाज के साथ उतरने के बारे में सोच सकते हैं।

मैन आफ द मैच शॉ ने कहा कि शुरू में आपको देखना होता है कि विकेट कैसा है। शुरू में मैदानी शॉट खेलना महत्वपूर्ण होता है। पिछले साल भी मैं गेंद को अच्छा हिट कर रहा था लेकिन कुछ गलतियां की। हमने धीमी शुरुआत की लेकिन हम जानते थे कि विकेट होने पर हम इसकी भरपाई कर सकते हैं। विकेट हमारे पिछले मैच की तुलना में बेहतर था।