नई दिल्ली । राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने गुरुवार को पहली बार वीडियो-कॉन्फ्रेंस के माध्यम से सात देशों के राजदूतों से परिचय पत्र स्वीकार किये। राष्ट्रपति भवन के इतिहास में यह पहली बार था जब डिजिटल माध्यम से परिचय पत्र प्रस्तुत किए गए। आज की इस घटना ने भारत की डिजिटल कूटनीति पहल में एक नया आयाम जोड़ा है।

राष्ट्रपति कोविंद को गुरुवार को डेमोक्रेटिक पीपुल्स रिपब्लिक ऑफ कोरिया, सेनेगल, त्रिनिदाद और टोबैगो, मॉरीशस, ऑस्ट्रेलिया, कोटे डी‘वायर और रवांडा के राजदूतों और उच्चायुक्तों ने अपने परिचय पत्र सौंपे।राष्ट्रपति कोविंद ने कहा, डिजिटल तकनीक ने दुनिया को कोविड‑19 द्वारा उत्पन्न चुनौतियों से उबरने में सक्षम किया है और एक अभिनव तरीके से अपने कार्यों को अंजाम दिया है। इस संबंध में, उन्होंने डिजिटल रूप से सक्षम क्रेडेंशियल्स समारोह को नई दिल्ली में राजनयिक समुदाय के साथ भारत के संबंधों के लिए एक विशेष दिन बताया। उन्होंने आगे कहा कि भारत बड़े पैमाने पर अपने लोगों और दुनिया की उन्नति के लिए डिजिटल मार्ग की असीम संभावनाओं का दोहन करने के लिए प्रतिबद्ध है।

राष्ट्रपति कोविंद ने दूतों को संबोधित करते हुए कहा कि कोविद ‑19 महामारी ने वैश्विक समुदाय के लिए एक अभूतपूर्व चुनौती पेश की और संकट ने अधिक वैश्विक सहयोग का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि भारत महामारी से लड़ने में साथी देशों को समर्थन देने में सबसे आगे है। राजदूत/उच्चायुक्त जिन्होंने अपने परिचय पत्र प्रस्तुत किये हैं उनमें 1. चोए हुई चोल, डेमोक्रेटिक पीपुल्स रिपब्लिक ऑफ कोरिया के राजदूत, 2. अब्दुल वहाब हैदर, सेनेगल गणराज्य के राजदूत, 3. डॉ रोजर गोपौल, त्रिनिदाद और टोबैगो गणराज्य के उच्चायुक्त, 4. मॉरीशस गणराज्य की उच्चायुक्त शांति बाई हनोमनजी, 5. बैरी रॉबर्ट ओ’आयरेल, ऑस्ट्रेलिया के उच्चायुक्त, 6. एम एनडीआरवाई एरिक केमिली, कोटे डी आइवरी गणराज्य के राजदूत और 7. जैकलिन मुकांगीरा, रवांडा गणराज्य की उच्चायुक्त शामिल हैं।