जयपुर । गहलोत सरकार कोरोना के प्रति गंभीर है जिसके चलते कानून लाने वाली है और आमजन और सरकारी मुलाजिमों का कोरोना संक्रमण के प्रति रवैया ब्रेफ्रिकता का सामने आया है इसकी पुष्टि नगर निगम के चुनाव में पोलिंग पार्टी के रूप में भवानी निकेतन कॉलेज में खाने के पैकेट वितरण के समय देखी गई।
नगर निगम चुनाव के पहले चरण के लिए पोलिंग पार्टियों को भवानी निकेतन से रवाना किया गया, लेकिन रवागनी स्थल पर पुडी-सब्जी के स्वाद के पीछे कोरोना को सरकारी कार्मिक भूल गए, लेकिन कोरोनाकाल में रवानगी स्थल पर तस्वीरे बेहद चिंताजनक देखने को मिली। मतदानकर्मी से लेकर पुलिसकर्मी बिना मास्क लगाए हुए खाने के लिए टूट पडे लंबी-लंबी कतारों में लगकर बिना सोशल डिस्टेसिंग की पालना करते हुए खाने का इंतजार करते हुए नजर आए. ठीक इसके सामने जिला प्रशासन के आला अफसरों की फौज इतनी भीड को देखकर भी आंखों पर पट्टी बांध रखी थी. ना कोई रोकने वाला वहां दिखा और ना की कोई टोकने वाला ऐसा लग रहा था जैसे की कोरोना खत्म हो गया हो जबकि सरकार ने नो मास्क नो एंट्री अभियान चला रखा है लोगों को जागरूक करने का काम सरकार कर रही हैं, लेकिन इसकी पालना करवाने वाले सरकारी नुमाइंदे ही अभियान की हवा निकालने में कोई कसर नहीं छोड रहे हैं।