Poco अपने स्मार्टफोन पोर्टफोलियो को लेकर बहुत चयनात्मक रही है। कुछ समय पहले ब्रांड अपनी मूल कंपनी Xiaomi से अलग हो गई थी और Poco F1 के लॉन्च के एक साल से अधिक समय बाद कंपनी ने Poco X2 (रिव्यू) को लॉन्च किया था। पोको एफ1 जैसे फ्लैगशिप किलर को लॉन्च करने की बजा, कंपनी अब बजट सेगमेंट पर अधिक ध्यान केंद्रित कर रही है। नए Poco M2 Pro के साथ इसका उद्देश्य सब-15,000 प्राइस सेगमेंट पर वर्चस्व हासिल करना है। पोको का कहना है कि इसने Poco X2 के साथ जबरदस्त सफलता पाई है और कंपनी इस फोन के साथ उस फॉर्मूले को दोहराने की उम्मीद रखती है।
Poco M2 Pro भारत में 13,999 रुपये की शुरुआती कीमत में लॉन्च किया गया है और इसके स्पेसिफिकेशन को देखते हुए, ऐसा लगता है कि यह Redmi Note 9 Pro और Realme 6 के लिए एक मजबूत प्रतिद्वंद्वी हो सकता है, जो समान कीमत के साथ आने वाले दो बेहरतीन प्रोडक्ट हैं। हालांकि, केवल पेपर पर स्पेसिफिकेशन लिख देने से स्मार्टफोन की क्षमता के बारे में वास्तव में पता नहीं चलता है। असल ज़िंदगी में Poco M2 Pro कैसा परफॉर्म करता है इसके लिए हमने इसे रिव्यू किया है। आइए देखते हैं कि पोको एम2 प्रो वास्तव में उतना अच्छा है, जितना इसे बनाया गया है।
Poco भारत में लोगों को यह यकीन दिलाना चाहती है कि M2 Pro स्वदेशी फोन है। इसके लिए कंपनी ने बॉक्स के आगे और पीछे खास तौर पर लेबल दिए हैं। हालांकि अजीब बात यह है कि फोन के साथ आने वाले चार्जर में Mi लोगो दिया गया है और जब आप फोन को ऑन करते हैं, तो MIUI लोगो के साथ आपका स्वागत किया जाता है।
Poco M2 Pro में आकर्षक डिज़ाइन मिलता है और इसे अच्छी तरह से बनाया गया है, लेकिन यह Redmi Note 9 Pro (रिव्यू) के समान दिखता है। डिस्प्ले, बटन, पोर्ट, होल-पंच और रियर कैमरा बंप सहित सब कुछ पूरी तरह से समान है। पोको ने फोन के निचले हिस्से पर एक नए पैटर्न का उपयोग किया है। कैमरा मॉड्यूल में कुछ छोटे-मोटे बदलाव भी किए हैं। एम2 प्रो में P2i वाटर-रेपेलेंट कोटिंग है, जिसके बारे में कहा जाता है कि यह स्प्लैश प्रूफ है। Poco M2 Pro हाथ में थोड़ा भारी और बड़ा लगता है। इसमें फिंगरप्रिंट सेंसर पावर बटन में सेट है और यह फोन को एक साधारण टैप से भी अनलॉक कर देता है।
Poco M2 Pro performance
MIUI और ऐप का प्रदर्शन हमारे रिव्यू के दौरान शानदार रहा। यह काफी हद तक क्वालकॉम स्नैपड्रैगन 720जी चिपसेट के कारण हुआ। यह वही प्रोसेसर है, जिसका इस्तेमाल Redmi Note 9 Pro और Realme 6 Pro में किया गया है। मैं पोको एम2 प्रो के मिड वेरिएंट का टेस्ट कर रहा हूं, जिसमें 6 जीबी एलपीडीडीआर4एक्स रैम और 64 जीबी यूएफएस 2.1 स्टोरेज है और इसकी कीमत 14,999 रुपये है। इसके अलावा फोन का एक 4 जीबी रैम + 64 जीबी स्टोरेज वेरिएंट और 6 जीबी रैम + 128 जीबी स्टोरेज वेरिएंट आता है, जिनकी कीमत क्रमश: 13,999 रुपये और 16,999 रुपये है।
MIUI के इंटरफेस में नेविगेट करना फास्ट था और इसमें मल्टीटास्किंग ने भी अच्छा काम किया। सामान्य रूप से ऐप लोडिंग तेज़ थी। गेमिंग का प्रदर्शन भी बहुत अच्छा था। मैंने कुछ हैवी-ग्राफिक्स वाले गेम्स खेलें और सभी अच्छे ग्राफिक्स के साथ आसानी से चले। मैने किसी तरह की हीटिंग की समस्या नहीं देखी, यहां तक ​​कि एक बार में लंबे समय तक खेलने के बाद भी। गेम टर्बो एक उपयोगी फीचर है, जो आपको गेम खेलते समय स्क्रीन रिकॉर्डिंग आदि के लिए शॉर्टकट देता है।
Poco M2 Pro के डिस्प्ले पर वीडियो अनुभव भी अच्छा लगता है। हालांकि, सिंगल स्पीकर बहुत प्रभावशाली नहीं है। यदि आप वायर्ड हेडफोन का उपयोग करते हैं, तो आप ऑडियो के लिए सॉफ्टवेयर एन्हांसमेंट को सक्षम कर सकते हैं, लेकिन स्पीकर के वॉल्यूम को बढ़ाने के लिए कोई फीचर उपलब्ध नहीं है।
Poco M2 Pro cameras
पोको एम2 प्रो में चार रियर कैमरे हैं, जिसमें प्राइमरी सेंसर 48-मेगापिक्सल का है। इसमें एक 8-मेगापिक्सल वाइड-एंगल लेंस, 5-मेगापिक्सल का मैक्रो कैमरा और 2-मेगापिक्सल का डेप्थ सेंसर शामिल है। आपको 16-मेगापिक्सल का होल-पंच सेल्फी कैमरा मिलता है। Poco M2 Pro में एमआईयूआई कैमरा ऐप का वही संस्करण है जो रेडमी नोट 9 प्रो में आता है। दोनों की कार्यक्षमता में एकमात्र वास्तविक अंतर यह है कि आप M2 Pro पर सेल्फी कैमरे के लिए नाइट मोड का इस्तेमाल कर सकते है।
कुछ दिलचस्प फीचर्स भी हैं, जैसे कि मैक्रो कैमरा के साथ फुल-एचडी वीडियो रिकॉर्ड करने की क्षमता और इसके आउटपुट आश्चर्यजनक रूप से अच्छे थे। वीडियो रिकॉर्डिंग को प्रो मोड में भी किया जा सकता है, जिससे आप खुद से एक्सपोज़र सेट कर सकते हैं और यह LOG फॉर्मेट में रिकॉर्ड करने की क्षमता भी देता है।